प्रथम विश्वयुद्ध (Short Notes In Hindi PDF Download)

First World War Short Notes In Hindi

प्रथम विश्वयुद्ध - प्रथम विश्वयुद्ध की शुरुआत 28 जुलाई , 1914ई . को आस्ट्रिया द्वारा सर्बिया पर आक्रमण किये जाने के साथ हुई । यह चार वर्षों तक चला । इसमें 37 देशों ने भाग लिया ।

प्रथम विश्वयुद्ध का तात्कालिक कारण आस्ट्रिया के राजकुमार फर्डिनेंड की बोस्निया की की राजधानी सेराजेवो में हत्या थी ।

प्रथम विश्वयुद्ध में सम्पूर्ण विश्व दो खेमों में बँट गया - मित्र राष्ट्र एवं धुरी राष्ट्र

धुरी राष्ट्रों का नेतृत्व जर्मनी ने किया । इसमें शामिल अन्य देश थे - आस्ट्रिया , हंगरी और इटली आदि ।

मित्र राष्ट्रों में इंग्लैंड , जापान , संयुक्त राज्य अमेरिका , रूस एवं फ्रांस शामिल था ।

गुप्त संधियों की प्रणाली का जनक बिस्मार्क था ।

आस्ट्रिया , जर्मनी एवं इटली के बीच त्रिगुट का निर्माण 1882 ई . में हुआ ।

सर्बिया की गुप्त क्रांतिकारी संस्था थी काला हाथ

रूस जापान युद्ध ( 1904-05 ई . ) का अन्त अमेरिकी राष्ट्रपति रूजवेल्ट की मध्यस्थता से हुआ ।

मोरक्को संकट 1906 ई . में पैदा हुई ।

प्रथम विश्वयुद्ध के दौरान जर्मनी ने रूस पर आक्रमण 1 अगस्त , 1914 ई . में एवं फ्रांस पर आक्रमण 3 अगस्त , 1914 ई . में किया ।

8 अगस्त , 1914 को इंग्लैंड प्रथम विश्वयुद्ध में शामिल हुआ ।

26 अप्रैल , 1915 ई . को इटली मित्र राष्ट्रों की ओर से प्रथम विश्वयुद्ध में शामिल हुआ ।

प्रथम विश्वयुद्ध के समय अमेरिका का राष्ट्रपति वुडरो विल्सन था ।

अमेरिका 6 अप्रैल , 1917 ई . को प्रथम विश्वयुद्ध में शामिल हुआ ।

जर्मनी के यू बोट द्वारा इग्लैंड के लूसीतानिया नामक जहाज को डुबाने के बाद अमेरिका प्रथम विश्वयुद्ध में शामिल हुआ , क्योंकि उस जहाज पर मरने वाले 1153 व्यक्तियों में 128 व्यक्ति अमेरिकी थे ।

प्रथम विश्व युद्ध की समाप्ति 11 नवम्बर , 1918 ई . को हुई ।

18 जून , 1919 ई . को पेरिस शांति सम्मेलन हुआ , जिसमें 27 देश भाग ले रहे थे , मगर शांति - संधियों की शर्ते केवल तीन देश - ब्रिटेन , फ्रांस और अमेरिका तय कर रहे थे ।

पेरिस शांति सम्मेलन में शांति - संधियों की शर्ते निर्धारित करने में जिन राष्ट्राध्यक्षों ने मुख्य भूमिका निभाई , वे थे - अमेरिकी राष्ट्रपति वुडरो विल्सन , ब्रिटेन के प्रधानमंत्री लॉयड जॉर्ज और फ्रांस के प्रधानमंत्री जॉर्ज क्लेमेसो ।

वर्साय की संधि 28 जून , 1919 ई . को जर्मनी के साथ हुई ।

युद्ध के हर्जाने के रूप में जर्मनी से 6 अरब 50 करोड़ पौंड की राशि की माँग की गयी ।

अन्तर्राष्ट्रीय क्षेत्र में प्रथम विश्वयुद्ध का सबसे बड़ा योगदान राष्ट्रसंघ की स्थापना थी ।

प्रथम विश्वयुद्ध के दौरान होनेवाली वर्साय की संधि में द्वितीय विश्वयुद्ध का बीजारोपण हुआ ।


Also Read - प्रथम विश्वयुद्ध (Descriptive Notes In Hindi PDF Download)


Download PDF
99 KB

If Download Not Start Click Here

Post a Comment

0 Comments