राज्यसभा की रचना या संगठन

rajya sabha ki sanrachna evam sangathan

राज्यसभा भारतीय संसद का द्वितीय या उच्च सदन है । इसे लोकसभा की तुलना में कम शक्तियाँ प्राप्त हैं , लेकिन फिर भी इसका अपना महत्त्व और उपयोगिता है |

सदस्य संख्या और निर्वाचन पद्धति

संविधान के अनुसार राज्यसभा के सदस्यों की अधिकतम संख्या 250 हो सकती है ।

इनमें से 12 सदस्य राष्ट्रपति द्वारा मनोनीत किये जाते हैं । ये ऐसे व्यक्ति होते हैं जिन्हें कला , साहित्य , विज्ञान , समाज - सेवा या खेल के क्षेत्र में विशेष ज्ञान या अनुभव प्राप्त हो ।

राज्य विधानमण्डलों द्वारा 233 सदस्य निर्वाचित होते हैं |

इन सदस्यों का चुनाव आनुपातिक प्रतिनिधित्व की एकल संक्रमणीय पद्धति के अनुसार संघ के विभिन्न राज्यों और संघीय क्षेत्रों की विधानसभाओं के सदस्यों द्वारा किया जाता है ।

सदस्यों की योग्यताएँ

वह व्यक्ति भारत का नागरिक हो ।

उसकी आयु 30 वर्ष या इससे अधिक हो ।

भारत सरकार अथवा किसी राज्य सरकार के अन्तर्गत वह कोई लाभ का पद धारण न किये हुये हो ।

वह किसी न्यायालय द्वारा पागल न ठहराया गया हो तथा दिवालिया न हो ।

सदस्यों का कार्यकाल

राज्यसभा एक स्थायी सदन है जो कभी भंग नहीं होता ।

इसके सदस्यों का कार्यकाल 6 वर्ष है और राज्यसभा के एक - तिहाई सदस्य प्रति दो वर्ष बाद सेवानिवृत्त हो जाते हैं ।

राज्यसभा के पदाधिकारी

राज्यसभा के दो प्रमुख पदाधिकारी होते है - सभापति और उपसभापति

भारत का उपराष्ट्रपति राज्यसभा का पदेन सभापति होता है , उसका कार्यकाल 5 वर्ष है ।

राज्यसभा अपने सदस्यों में से किसी एक को 6 वर्ष के लिए उपसभापति निर्वाचित करती है ।


Also Read - युद्धबंदी और जेनेवा संधि


Download PDF
129 KB

If Download Not Start Click Here

Post a Comment

0 Comments