Join Telegram Group

नाइट्रोजन उपापचय तथा नाइट्रोजन चक्र Nitrogen Metabolism and Nitrogen Cycle

Nitrogen Metabolism and Nitrogen Cycle In Hindi

पादपों में नाइट्रोजन एक नियन्त्रक पोषक तत्व है । जब पादपों में नाइट्रोजन की कमी हो जाती है तो पादपों में कई प्रकार के विकार उत्पन्न हो जाते हैं ।

नाइट्रोजन का उपयोग न्यूक्लिक अम्लों ( DNA , RNA ) , विटामिन्स , प्रोटीन्स , अमीनो अम्ल , एंजाइम्स , अन्य कार्बनिक यौगिकों के संश्लेषण में किया जाता है ।

पौधे निम्न चार प्रकार के नाइट्रोजन युक्त यौगिकों का उपयोग करते हैं ( i ) नाइट्राइट , ( ii ) नाइट्रेट ( iii ) अमोनिया युक्त यौगिक , ( iv ) नाइट्रोजन युक्त कार्बनिक यौगिक ।

पौधे सूक्ष्म जीवों ( कुछ जीवाणु , कवक , नील हरित शैवाल आदि ) द्वारा स्थिरीकृत नाइट्रोजन को अवशोषित कर इसका उपयोग विभिन्न कार्बनिक यौगिकों के निर्माण में करते हैं ।

ये कार्बनिक यौगिक कोशिका संगठन में तथा विभिन्न उपापचयी क्रियाओं में भाग लेते हैं तथा पौधों से जन्तुओं में होते हुए पुनः मृदा व वातावरण में लौट कर दूसरे जीवों के उपयोग में आते हैं ।

यह संपूर्ण प्रक्रिया नाइट्रोजन चक्र ( Nitrogen cycle ) कहलाती है । वातावरण में नाइट्रोजन चक्र निम्न चार चरणों में सम्पन्न होता है -

  1. नाइट्रोजन स्थिरीकरण
  2. अमोनीकरण
  3. नाइट्रीकरण
  4. विनाइट्रीकरण

वायमुण्डल की स्वतन्त्र नाइट्रोजन ( N ) को उसके यौगिकों में बदलने की क्रिया को नाइट्रोजन स्थिरीकरण या नाइट्रोजन यौगिकीकरण कहते हैं ।

वायुमण्डल के अजैविक घटक जैसे ताप , मृदा , रसायन पदार्थ आदि नाइट्रोजन के स्थिरीकरण में भाग लेते हैं । यह निम्न दी प्रकार का होता है -

(A) वायुमण्डलीय नाइट्रोजन स्थिरीकरण ( Atmospheric N2 Fixation )

इस विधि के अन्तर्गत तड़ित ( Lightening ) मेघ गर्जन , आँधी के दौरान वायुमण्डल की मुक्त नाइट्रोजन ( N2 ) ऑक्सीजन के साथ संयुक्त होकर नाइट्रिक ऑक्साइड ( NO ) का निर्माण करती है ।

यह NO ऑक्सीजन की अधिकता में ऑक्सीकृत होकर नाइट्रोजन डाईऑक्साइड ( NO2 ) बनाती है ।

यह नाइट्रोजन डाईऑक्साइड ( NO2 ) जल से क्रिया कर नाइट्रिक अम्ल ( HNO3 ) का निर्माण करती है ।

यह नाइट्रिक अम्ल वर्षा जल के साथ मृदा में चला जाता है ।

मृदा में यह अम्ल क्षारीय मूलकों के साथ क्रिया कर नाइट्रेट यौगिकों ( NO3- ) का निर्माण कर लेता है , जिसे पौधे जड़ों द्वारा अवशोषित करते हैं ।





तडित
N2 + O22NO( नाइट्रिक ऑक्साइड )
मेघ गर्जन
2NO + O2 → 2NO2 ( नाइट्रोजन डाई ऑक्साइड )
2NO2 + H2O → HNO2 + HNO3 ( नाइट्रिक अम्ल )

इसे भौतिक नाइट्रोजन स्थिरीकरण भी कहते हैं । यह वायुमण्डल में कुल नाइट्रोजन स्थिरीकरण का लगभग 10 % भाग बनाता है ।

(B) औद्योगिक नाइट्रोजन स्थिरीकरण ( Industrial N2 Fixation )

इस विधि के अन्तर्गत अत्यधिक दाब ( 200 Atm ) तथा उच्च तापमान ( 200 ° C ) पर उत्प्रेरक की उपस्थिति में नाइट्रोजन तथा हाइड्रोजन गैस संयुग्मित होकर अमोनिया ( NH3 ) गैस बनाती है । अमोनिया संश्लेषण की इस विधि को हैबर विधि ( Haber's Process ) कहते हैं । इस अमोनिया का उपयोग रासायनिक उर्वरक ( Chemical fertilizer ) बनाने में किया जाता है । इस विधि को रासायनिक नाइट्रोजन स्थिरीकरण भी कहा जाता है ।

उच्च ताप
N2 + 3H22NH3

वायुमण्डलीय नाइट्रोजन का सूक्ष्म जीवों द्वारा कार्बनिक अथवा अकार्बनिक यौगिकों में बदलने को जैविक नाइट्रोजन स्थिरीकरण कहते हैं ।

नाइट्रोजन का यौगिकीकरण करने वाले इन सूक्ष्म जीवों को डाइएजोट्रोफ ( Dia - azotrophs ) कहते हैं
नोट नील हरित शैवाल ( BG algae ) में N2 स्थिरीकरण में भाग लेने वाली विशिष्ट प्रकार की कोशिकाएँ पायी जाती है , जिन्हें हेटेरोसिस्ट कहते हैं । इन सूक्ष्म जीवों की सक्रियता के लिए मोलिब्डेनम ( Mo ) आवश्यक है ।

लेग्यूमिनोसी कुल के पौधों की जड़ों में राइजोबियम जीवाणु तथा ब्रेडीराइजोबियमकी विभिन्न जातियाँ प्रवेश कर मूल ग्रन्थिकाओं ( Root nodules ) का निर्माण करती है तथा मृदा की नाइट्रोजन को नाइट्रेट यौगिकों में बदलते हैं ।

इसी प्रकार एजोराइजोबियम ( Azorhizobium ) नामक जीवाणु लिग्यूम कुल के सेसबानिया पौधे में स्तंभ गुलिकाओं ( Stem nodules ) का निर्माण कर नाइट्रोजन यौगिकीकरण की क्रिया में भाग लेता है ।

लिग्यूम पादपों की जड़ों में राइजोबियम ( Rhizobium ) नामक सहजीवी जीवाणु पाये जाते हैं जो पौधे की जड़ों पर ग्रन्थिकाओं ( Root nodules ) का निर्माण करते हैं ।

राइजोबियम में पाया जाने वाला ग्राम नैगेटिव ( -Ve ) दण्डाणु प्रकार का जीवाणु है ।

जड़ की कोशिकाओं में प्रवेश करने के बाद राइजोबियमको जीवाणुसम या बैक्टीरॉइड कहते हैं ।

लेग्हीमोग्लोबिन ( Leghaemoglobin ) – लिग्यूम पादपों की क्रियाशील गुलिकाओं में लाल गुलाबी रंग का वर्णक पाया जाता है जिसे लेगहीमोग्लोबिन कहते हैं । यह वर्णक नाइट्रोजन स्थिरीकरण की क्रिया विधि में ऑक्सीजन को अवशोषित करने का कार्य करता है । नाइट्रोजन स्थिरीकरण क्रिया का प्रमुख एन्जाइम नाइट्रोजिनेज ऑक्सीजन के प्रति अति संवेदनशील होता है तथा O2 की उपस्थिति में यह एन्जाइम निष्क्रिय हो जाता है । लेगहीमोग्लोबिन O2 को अवशोषित कर नाइट्रोजिनेज को निष्क्रिय होने से बचाता है ।

नोड्यूलिन ( Nodulin ) - प्रोटीन - यह प्रोटीन गुलिका की संरचना तथा नाइट्रोजन व कार्बोहाइड्रेट के उपापचय में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है ।
नोट - नाइट्रोजन स्थिरीकरण में परपोषी के नोड जीन तथा जीवाणु के नोड जीन , निफ जीन एवं फिक्स जीनों का विशेष योगदान होता है । यहाँ पर नोड जीन का कार्य गुलिका निर्माण को प्रेरित करना तथा निफ जीन का कार्य नाइट्रोजन का स्थिरीकरण करना है । इस प्रकार दोनों सहजीवों के संजीन में पाये जाने वाले जीनों के पारस्परिक सहयोग और अभिव्यक्ति के परिणामस्वरूप ही नाइट्रोजन स्थिरीकरण होता है

अमोनिया α- कीटो ग्लूटेरिक अम्ल से क्रिया कर ग्लूटेमिक अम्ल का निर्माण करती है ।

ग्लूटेमिक अम्ल मुख्य अमीनो अम्ल है जिससे अन्य अमीनो अम्लों को संश्लेषित किया जा सकता है । इसके अन्तर्गत अमोनिया - कीटो ग्लूटेरिक अम्ल के साथ क्रिया करके ग्लूटेमिक अम्ल नामक अमीनो अम्ल बनाती है ।

ग्लूटेमेट
NH4+ + α - कीटोग्लूटेरिक अम्ल + NADPH3ग्लूटेमेट + H2++ NADP
डिहाइड्रोजिनेज

ट्रांसएमीनेज अभिक्रिया ( Transaminse reaction ) इसके अन्तर्गत एक अमीनो अम्ल का अमीनो समूह कीटो अम्ल को स्थानान्तरित होता है तथा इससे एक नये अमीनों अम्ल का निर्माण होता है ।

HO
||
R1C — COO + R2C —COO-R1C — COO- + R2— COO
||||||
NH3+OONH3+

इस अभिक्रिया द्वारा लगभग 17 प्रकार के अमीनों अम्लों का निर्माण हो सकता है ।

जब मृदा में पाये जाने वाले कार्बनिक पदार्थ विघटित होकर अमोनिया या अमोनियम यौगिकों बनाते हैं तो इस प्रक्रिया को अमोनीकरण कहते हैं । अमोनिया गैस का नाइट्रेट यौगिकों ( NO ) में ऑक्सीकरण होने की क्रिया नाइट्रीकरण ( Nitrification ) कहलाती है । यह प्रक्रिया दो विशिष्ट प्रकार के रसायन संश्लेषी जीवाणुओं ( Chaemosynthetic bacteria ) द्वारा निम्न दो चरणों में सम्पन्न होती है

1. प्रथम चरण - इस चरण में अमोनिया को नाइट्रोसोमोनासजीवाणु की उपस्थिति में नाइट्राइट ( NO2 ) में बदला जाता है ।

Nitrosomonas
2NH3 + 3 O23HNO2 + 2H2O + ऊर्जा ( 40 KCal )

2. द्वितीय चरण - इस चरण में नाइटोबैक्टरजीवाणु की उपस्थिति में नाइट्राइट को नाइट्रेट ( NO3 ) में बदला जाता है ।

Nitrobactor
2HNO2 + O22HNO3 + ऊर्जा ( 20 KCal )

महत्वपूर्ण प्रश्न

वायुमण्डलीय नाइट्रोजन स्थिरीकरण सम्पूर्ण नाइट्रोजन स्थिरीकरण का लगभग कितने प्रतिशत तक होता है ? लगभग 10 % तक ।

असहजीवी वायवीय जीवाणु का नाम लिखिए जिसमें नाइट्रोजन स्थिरीकरण होता है ? एजोटोबेक्टर व एजोमोनास ।

अलेग्यूमिनोसी पादप ( उदा . एल्नस ) की जड़ों पर कौनसा सूक्ष्म जीव नाइट्रोजन स्थिरीकारक ग्रन्थियाँ उत्पन्न करता है । फ्रेंकिया ( Frankia )

नाइट्रोजन का उपयोग किन यौगिकों के संश्लेषण में किया जाता है । न्यूक्लिक अम्लो [ DNA - RNA ] , विटामिन्स , प्रोटीन्स अमीनों अम्ल , एन्जाइम्स व अन्य कार्बोनिक यौगिकों में किया जाता है ।

पौधे कौनसे प्रकार के यौगिकों का उपयोग करते है । ये चार प्रकार के यौगिकों का उपयोग करते है -
( i ) नाइट्राइट
( ii ) नाइट्रेट
( iii ) अमोनिया युक्त यौगिक
( iv ) नाइट्रोजन युक्त कार्बनिक यौगिक

नाइट्रोजन चक्र किसे कहते है ? कार्बनिक यौगिक कोशिका संगठन में तथा विभिन्न क्रियाओं में भाग लेता है तथा पौधों से जन्तुओं में होते हुए पुनः मृदा व वातावरण में लोटकर दूसरे जीवों के उपयोग में आते है इस सम्पूर्ण क्रिया को नाइट्रोजन चक्र कहते है ।

वायुमण्डल में नाइट्रोजन की लगभग कितनी प्रतिशत मात्रा पायी जाती है ? लगभग 78 %

नाइट्रोजिनेज एन्जाइम मुख्यतः किससे बना होता है ? प्रोटीन , Mo व Fe तत्वों से

नाइट्रीकारक दो जीवाणुओं के नाम लिखिए । नाइट्रोसोमोनास एवं नाइट्रोबेक्टर

विनाइट्रीकारक जीवाणुओं के नाम लिखिए । बेसीलस डिनाइट्रीफिकेंस , थायोबैसिलस डिनाइट्रीफिकेंस

अमोनीकरण के दो प्रमुख चरणों के नाम लिखिए । ( i ) प्रोटीन अपघटन ( ii ) विऐमीनीकरण

नाइट्रोजन का यौगिकी करण करने वाले जीवो को क्या कहते डाइएजोट्रोफ

नील हरित शैवाल में N2 का स्थिरीकरण में भाग लेने वाली कोशिकाएं क्या कहलाती है । हेटेरोसिस्ट

नाइट्रोजिनेज एन्जाइम को निष्क्रिय होने से कौन बचाता है ? लेगहीमोग्लोबिन

किसी पादप के सम्पूर्ण शुष्क भार का लगभग कितने प्रतिशत भाग नाइट्रोजन युक्त यौगिकों का होता है ? लगभग 5 - 30 % भाग में

वातावरण में घटित होने वाले नाइट्रोजन चक्र के प्रमुख चरणों के नाम लिखिए । ( i ) नाइट्रोजन स्थिरीकरण
( ii ) अमोनीकरण
( iii ) नाइट्रीकरण
( iv ) विनाइट्रीकरण

नाइट्रोजन स्थिरीकरण करने वाले सहजीवी जीवाणु का नाम लिखिए । राइजोबियम तथा ब्रेडीराइजोबियम ।

लेग्यूमिनोसी कुल के पादपों में नाइट्रोजनी स्थिरीकरण के लिए आवश्यक वर्णक का नाम लिखिए । लेगहीमोग्लोबिन

सहजीवी नाइट्रोजन स्थिरीकरण में प्रयुक्त होने वाली दो प्रमुख 7 प्रोटीन कौनसी होती है ? ( i ) लेगहीमोग्लोबिन ( ii ) नोड्यूलिन प्रोटीन ।

नाइट्रोजन स्थिरीकरण करने वाले सूक्ष्मजीवों की सक्रीयता के आवश्यक प्रमुख तत्वों के नाम लिखिए । Co ( कोबाल्ट ) , Mo ( मॉलीब्डेनम ) , Fe ( आयरन )

लेक्टिन नामक ग्लाइकोप्रोटीन का क्या कार्य है ? जाति विशेष के राइजोबियम जीवाणु को मूल की ओर आकर्षित करना ।

निफ जीन क्या है ? यह जीवाणु कोशिका में पाया जाने वाला एक जीन है जो स्थिरीकरण में अपनी भूमिका निभाता है ।

किस टेरिडोफाइट की पत्तियों में एनाबीना नामक नील हरित शैवाल द्वारा नाइट्रोजन स्थिरीकरण किया जाता है ? एजोला ( Azolla ) नामक टेरिडोफाइट की पत्तियों में ।

कौनसे जीवाणु द्वारा सेसबेनिया ( लेग्यूमिनोली कुल का पादप ) में स्तम्भ गुलिकाएँ बनाकर नाइट्रोजन स्थिरीकरण किया जाता है ? एजोराइजोबियम द्वारा ।

Download PDF

Download PDF
203 KB
Due to some technical error, you are not able to download PDF at this time. Still You can download PDF in our telegram channel.

Post a Comment

0 Comments

Promoted Posts