पर्यावरणीय वातावरणीय प्रदूषण ( Environmental Pollution )

✷ शब्दकोष में प्रदूषण शब्द का अर्थ ‘ गन्दा’ , ‘ अपवित्र करना ' , ‘ दूषित करना है ।

✷ एक सरल परिभाषा के अनुसार - “ प्रदूषण वायु , जल व स्थल के रासायनिक , भौतिक व जैविक गुणों में होने वाला ऐसा अवांछनीय परिवर्तन है जो कि मानव जीवन , औद्योगिक प्रगति , जीवन की परिस्थितियों व सांस्कृतिक धरोहर के लिए अत्यन्त हानिकर है ।

✷ प्रदूषण मानव क्रियाओं का एक ऐसा उप - उत्पाद है जिसने प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप में ऊर्जा प्रतिरूपों , विकिरण स्तरों , जीवों के भौतिक , रासायनिक संगठनों व बहुलता में हुए इनके प्रभावों में ऐसा वातावरणीय प्रतिकूल परिवर्तन उत्पन्न किया है जिससे मानव को प्रत्यक्ष रूप में तथा परोक्ष रूप में जल संसाधन , जल आपूर्ति , कृषि व जैविक उत्पादों , मानव भौतिक स्वामित्व , मनोरंजन के अवसरों व नैसर्गिक सुन्दरता के आकलन को प्रभावित किया है ।

✷ ” मनुष्य की क्रियाओं के फलस्वरूप ऊर्जा स्रोत , विकिरण स्तर , रासायनिक व भौतिक तत्त्वों तथा जीवों में परोक्ष व अपरोक्ष परिवर्तन पर्यावरणीय प्रदूषण कहलाता है ।

✷ वे सभी कारक जो पर्यावरण को किसी न किसी रूप में प्रदूषित करते हैं प्रदूषक कहलाते हैं । प्रदूषक दो प्रकार के होते हैं -

  • ( i ) जैव विघटनीय
  • ( ii ) अविघटनीय
  • ✷ प्रदूषकों की प्रकृति के आधार पर इनको छ : वर्गों में वर्गकृित किया गया है -

  • ( i ) ठोस अपशिष्ट
  • ( ii ) द्रव अपशिष्ट
  • ( iii ) गैसीय अपशिष्ट
  • ( iv ) भारहीन अपशिष्ट
  • ( v ) ताप अपशिष्ट
  • ( vi ) ध्वनि अपशिष्ट ।
  • ✷ प्रदूषण मुख्यतः निम्न प्रकार का होता है -

  • ( i ) वायु प्रदूषण
  • ( ii ) जल प्रदूषण
  • ( iii ) मृदा प्रदूषण
  • ( iv ) समुद्री प्रदूषण
  • ( v ) ध्वनि प्रदूषण
  • ( vi ) तापीय प्रदूषण
  • ( vii ) नाभिकीय प्रदूषण आदि
  • ✷ शुद्ध वायु के सामान्य संगठन में गुणात्मक या मात्रात्मक परिवर्तन ही वायु प्रदूषण कहलाता है । इसका मुख्य कारण मानव है । इसके अतिरिक्त इसके कई कारण हैं |

    ✷ जल में अपशिष्ट पदार्थों के मिलने से जल प्रदूषित हो जाता है । प्रदूषित जल से जन्तुओं और वनस्पतियों पर हानिकारक प्रभाव पड़ता है । जल प्रदूषण के कई कारण हैं ।

    ✷ वायु प्रदूषण तथा जल प्रदूषण से कई रोग उत्पन्न होते हैं ।

    ✷ भूमि की उर्वरता बढ़ाने के लिए विभिन्न प्रकार के रासायनिक उर्वरकों को मिलने से मृदा प्रदूषण हो रहा है ।

    ✷ महासागरों में प्रदूषण के दो मुख्य कारण हैं –

  • ( i ) तेल फैलना
  • ( ii ) नाभिकीय विस्फोट
  • ✷ शोरगुल की अधिकता से उत्पन्न अदृश्य प्रदूषण को ध्वनि ( शोर ) प्रदूषण कहते हैं ।ध्वनि की तीव्रता मापने का मात्रक ' डेसिबल ' है । ध्वनि प्रदूषण , श्रवण क्षमता को कम करता है तथा यकृत व मस्तिष्क के कार्यों के लिये हानिकर है ।

    ✷ उच्च ताप के जल के समूहों तथा नदियों में बहाने पर वहाँ के जल का ताप बढ़ जाता है । इसे ही ताप प्रदूषण कहते हैं ।

    ✷ कृत्रिम रेडियो ऐक्टिव तथा उसके विभिन्न परीक्षणों से पर्यावरण दूषित होता जा रहा है |

    ✷ प्रदूषण प्रबन्ध के अन्तर्गत वातावरणीय प्रदूषण को कम करना है ।

    Download PDF
    195 KB

    Post a Comment

    0 Comments

    Promoted Posts