प्राकृतिक संसाधन( Natural Resources )

Natural Resources

✷ जीवन के लिए आवश्यक पदार्थों की आपूर्ति करने वाले वे सभी जैव - अजैव स्रोत जो प्रकृति में पाये जाते हैं , प्राकृतिक संसाधन कहलाते हैं ।

✷ प्राकृतिक संसाधनों की सुरक्षा और संरक्षण करना आज की सबसे बड़ी आवश्यकता है ।

✷ संरक्षण का शब्द कोश में दिया गया अर्थ है सुरक्षित रखने का कार्य ।

✷ संरक्षण विशेषज्ञ विलियम वोग के शब्दों में अभी तक ज्ञात जीवों में से मानव ही एक ऐसा जीव हैं जो जीवित रहने के लिए उसी वातावरण का विनाश कर रहा है जो उसके अस्तित्व के लिए अनिवार्य है । "

✷ प्राकृतिक संसाधनों को आमतौर पर दो मुख्य वर्गों में विभाजित किया जाता है -

  • ( 1 ) अनवीकरणीय - धातुएँ ( तांबा , लोहा आदि ) खनिज इंधन ( कोयला व पेट्रोल ) अन्य खनिज आदि ।
  • ( 2 ) नवीकरणीय मृदा , खाद्य फसलें आदि ।
  • मानवीय संसाधन के अन्तर्गत स्वयं मानव एक संसाधन हैं । मानव अपने श्रम , ज्ञान एवं तकनीक से विविध संसाधनों का उपयोग करता है । संस्कृति का विकास भी एक संसाधन प्रतिरूप है ।

    वन वृक्षों तथा झाड़ियों तथा अन्य काष्ठीय वनस्पति का एक सघन जैविक समुदाय है ।

    ✷ वन , मानव व राष्ट्र की एक अत्यन्त महत्त्वपूर्ण सम्पदा है । विकासशील देशों में ऊर्जा का सबसे प्रमुख साधन वन ईंधन है ।

    ✷ मानव और वनस्पति का परस्पर जैविक सम्बन्ध है , जिसके द्वारा एक दूसरे का सहअस्तित्व है ।

    ✷ वनों के क्षेत्र में कमी आना तथा अनियंत्रित कटाई को ही वन विनाश या वनोन्मूलन कहते हैं । सम्पूर्ण विश्व आज वनोन्मूलन की समस्या एवं उसके पर्यावरण पर प्रभाव से त्रस्त हैं ।

    ✷ वनों का मुख्य उत्पादन लकड़ियाँ हैं जिनका उपयोग उद्योगों , भवन निर्माण , फर्नीचर आदि में कई वर्षों से किया जा रहा है ।

    ✷ खनन का पर्यावरण में निम्न प्रभाव पड़ते हैं -

  • ( i ) विशाल गर्तों का निर्माण
  • ( ii ) वनस्पति विनाश
  • ( iii ) भूस्खलन आदि
  • ✷ जल मानव जीवन की अत्यन्त महत्वपूर्ण आवश्यकता है । वायु के बाद प्राणों की रक्षा के लिए जल ही महत्त्वपूर्ण पदार्थ है । भूपटल पर जल के वितरण और प्राप्ति अनुसार इसे दो भागों में बाँटा जा सकता है -

  • ( i ) स्थलीय जल संसाधन
  • ( ii ) महासागरीय जल संसाधन ।
  • ✷ जल संसाधनों का मानव द्वारा घरेलू जल - पूर्ति , औद्योगिक जल - पूर्ति , मछली उद्योग आदि में किया जाता है ।

    ✷ बाढ़ तथा सूखा दोनों प्राकृतिक आपदायें हैं जिनका सम्बन्ध जल वर्षा से है । भारत में अकाल की चपेट में राजस्थान सबसे अधिक आता है ।

    ✷ प्राकृतिक संसाधनों में खनिज महत्त्वपूर्ण है । खनिजें को तीन श्रेणियों में विभत्र किया गया है —

  • ( i ) धात्विक खनिज
  • ( ii ) खनिज ईंधन
  • ( iii ) अधात्विक खनिज
  • ✷ खनन का पर्यावरण पर निम्नलिखित दुष्प्रभाव पड़ता है -

  • ( i ) भूस्खलन
  • ( ii ) वनस्पति विनाश
  • ( iii )खनन धूलों से प्रदूषण
  • ( iv ) मानव स्वास्थ्य आदि पर
  • ✷ खाद्य भी प्रमुख संसाधन है । खाद्य पदार्थों के रूप में गेहूं , चावल , मांस , दुग्ध पदार्थों आदि का उपयोग किया जाता है ।

    ✷ कृषि के क्षेत्रों में अंधाधुंध कीटनाशकों के प्रयोग से भी स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है ।

    ✷ शक्ति भी एक संसाधन है जिसके प्रमुख स्रोत निम्नलिखित है -

  • ( i ) पवन
  • ( ii ) बहता जल
  • ( iii ) सौर्य शक्ति
  • ( iv ) पेट्रोल , कोयला , आदि ।
  • ✷ सौर ऊर्जा , वायु शक्ति , ज्वार शक्ति , भूतापीय शक्ति आदि ऊर्जा के वैकल्पिक अथवा गैर परम्परागत स्रोत हैं ।

    ✷ भूमि एक प्राकृतिक संसाधन है । जिसे मिट्टी या मृदा के रूप में जाना जाता है |

    ✷ भूमि से सम्बन्धित अनेक पर्यावरणीय समस्याओं का जन्म होता है उनमें से प्रमख समस्याएँ निम्नलिखित हैं —

  • ( i ) भूस्खलन
  • ( ii ) भू - अपरदन
  • ( iii ) मरुस्थलीयकरण आदि ।
  • ✷ भूस्खलन एक प्राकृतिक आपदा है । मृदा अपरदन प्राकृतिक एवं मानवीय दोनों कारणों से होता है । मरुस्थलीयकरण भी एक प्राकृतिक विपदा है ।

    Download PDF
    216 KB

    Post a Comment

    0 Comments

    Promoted Posts