न्यूटन का गति का तृतीय नियम (Newton's Third Law Of Motion)

Newton's Third Law Of Motion

इस नियम के अनुसार प्रत्येक क्रिया की , परिमाण में समान परन्तु दिशा में विपरीत प्रतिक्रिया उत्पन्न होती है । इसे क्रिया - प्रतिक्रिया का नियम भी कहते हैं । प्रथम वस्तु द्वारा द्वितीय वस्तु पर लगाया गया बल क्रिया कहलाता है और द्वितीय वस्तु द्वारा प्रथम वस्तु पर लगाया गया बल प्रतिक्रिया कहलाता है । इस नियम को गणितीय रूप में निम्न प्रकार व्यक्त कर सकते हैं -

F21 = -F12          . . . . (1)

यहाँ पर F12 ( प्रतिक्रिया ) प्रथम वस्तु पर द्वितीय वस्तु द्वारा लगाया गया बल तथा F21 ( क्रिया ) द्वितीय वस्तु पर प्रथम वस्तु द्वारा लगाया गया बल है । यहाँ पर ऋणात्मक चिन्ह विपरीत दिशा को प्रदर्शित करता है । इन दोनों बलों में से एक को क्रिया एवं दूसरे को प्रतिक्रिया बल कहते हैं ।

इस नियम के महत्त्वपूर्ण तथ्य निम्नलिखित

( 1 )किसी भी साधन द्वारा लगाया गया बल क्रिया तथा उसके कारण अनुभव किया गया बल प्रतिक्रिया बल कहलाता है ।

( 2 )यह निश्चित तौर पर नहीं कहा जा सकता कि कौनसा क्रिया बल है तथा कौनसा उसका प्रतिक्रिया बल है । केवल यह कहा जा सकता है कि इन दोनों बलों में से एक क्रिया बल है और दूसरा इसका प्रतिक्रिया बल है ।

( 3 ) क्रिया एवं प्रतिक्रिया बलों की उत्पत्ति दोनों वस्तुओं के सम्पकिंत होने पर अथवा उनके दूर रहने पर भी सम्भव है ।

( 4 ) क्रिया एवं प्रतिक्रिया बले सदैव अलग - अलग पिण्डों पर लगते हैं , एक पिण्ड पर नहीं , इसी कारण ये एक - दूसरे के प्रभाव को समाप्त नहीं करते और प्रत्येक बल अपना - अपना प्रभाव उत्पन्न करता है ।

( 5 ) क्रिया और प्रतिक्रिया का नियम वस्तु के स्थिर अथवा गतिशील दोनों स्थितियों में लागू होता है ।

( 6 ) क्रिया एवं प्रतिक्रिया का नियम सभी प्रकार के बलों जैसे गुरुत्वीय , वैद्युत , चुम्बकीय बल आदि में लागू होता है ।

न्यूटन की गति के तृतीय नियम के उदाहरण

( 1 )एक तैराक जब अपने हाथों से पानी को पीछे धकेल कर क्रिया करता है तो धकेला हुआ पानी तैराक को उतनी ही प्रतिक्रिया से आगे की ओर धकेल देता है ।

( 2 )जब बन्दूक चलाई जाती है , तो गोली जिस बल से आगे बढ़ती है ( क्रिया ) बन्दुक पर उतना ही बल पीछे की ओर ( प्रतिक्रिया ) लगता है ।

( 3 ) नाव खेने वाला व्यक्ति जितनी क्रिया से पानी को पीछे धकेलता है उतनी ही प्रतिक्रिया से पानी , नाव को आगे बढ़ने के लिए आवश्यक प्रतिक्रिया बल प्रदान करता है ।

( 4 )किसी धरातल पर स्थित पिण्ड का भार ( क्रिया बल ) नीचे की ओर लगता है , जबकि धरातल द्वारा प्रतिक्रिया बल R पिण्ड पर ऊपर की ओर लगता हैं ।

( 5 ) जब कोई व्यक्ति पृथ्वी पर पैदल चलता है तो वह पैर के पंजों के द्वारा तिर्यक बल F से पृथ्वी को पीछे की ओर दबाता है ( क्रिया ) । पृथ्वी भी उतना ही बल ( प्रतिक्रिया ) विपरीत दिशा में लगाती है । इस प्रतिक्रिया बल को दो समकोणिक घटकों में वियोजित किया जा सकता है । क्षैतिज घटक व्यक्ति को आगे बढ़ने में मदद करता है जबकि ऊर्ध्वाधर घटक व्यक्ति के भार को सन्तुलित करता है ।

Also Read
न्यूटन का गति का प्रथम नियम
न्यूटन का गति का द्वितीय नियम

Download PDF Of Newton's Third Law Of Motion In Hindi

आप सभी स्टूडेंट्स नीचे दिए गये डाउनलोड बटन पर क्लिक करके यह पीडीऍफ़ डाउनलोड कर सकते हो | और इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते हो |

Download PDF
123 KB

Post a Comment

0 Comments