ग्रेट ब्रिटेन के संविधान से सम्बंधित प्रश्नोत्तर

ग्रेट ब्रिटेन के संविधान से सम्बंधित प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1 . ब्रिटिश संविधान की दो विशेषताएँ बताइए । 

उत्तर - ( 1 ) ब्रिटिश संविधान गत 1400 वर्षों के निरन्तर विकास का परिणाम है । 

( 2 ) ब्रिटिश संविधान दुनिया का एकमात्र अलिखित एवं प्राचीन संविधान है । 

प्रश्न 2 . विकसित संविधान से क्या तात्पर्य है ? 

उत्तर - जब संविधान का निर्माण संविधान सभा जैसी किसी संस्था द्वारा निश्चित समय पर नहीं किया जाता बल्कि वह इतिहास और विकास की उपज होता है । ऐसा संविधान समाज में पाई जाने वाली विभिन्न परम्पराओं , रीति - रिवाजों , प्रथाओं तथा न्यायालयों के निर्णयों पर आधारित होता है , विकसित संविधान कहलाता है । ब्रिटेन का संविधान इसका सर्वश्रेष्ठ उदाहरण है । 

प्रश्न 3 . संसदीय प्रजातंत्र को परिभाषित कीजिए ।
उत्तर -  संसदीय प्रजातंत्र का तात्पर्य सरकार की उस प्रणाली से लिया जाता है जिसमें जनता अपने प्रतिनिधियों के माध्यम से शासन करती है । ये प्रतिनिधि वयस्क मतदाताओं द्वारा स्वतंत्र एवं निष्पक्षता पूर्वक चुने जाते हैं । उदाहरण के लिए , ब्रिटेन तथा भारत । 

प्रश्न 4 . ग्रेट ब्रिटेन में कौन - कौन से राज्य सम्मिलित हैं ?
उत्तर - ग्रेट ब्रिटेन एक द्वीप समूह है जिसमें इंग्लैण्ड , स्कॉटलैण्ड , वेल्स तथा उत्तरी आयरलैण्ड के संयुक्त राज्य सम्मिलित हैं ।

प्रश्न 5 . ब्रिटिश संविधान के अध्ययन के महत्त्व के कोई दो बिन्दु बताइए । 
उत्तर - ( 1 ) यह विश्व का प्राचीनतम संविधान है । 
( 2 ) यह दुनिया का एकमात्र अलिखित संविधान है ।

प्रश्न 6 . एकात्मक शासन व्यवस्था । 
उत्तर - एकात्मक शासन व्यवस्था वह व्यवस्था है जिसमें शासन की सम्पूर्ण शक्ति संविधान के आधार पर केन्द्र में या एक ही राष्ट्रीय सरकार में निहित होती है तथा स्थानीय संस्थाएँ अपनी शक्ति केन्द्रीय सरकार से प्राप्त करती हैं । सम्पूर्ण देश का शासन एक ही स्थान देश की राजधानी से होता है तथा एक ही कार्यपालिका , व्यवस्थापिका एवं न्यायपालिका होती है ।

प्रश्न 7 . ब्रिटिश संसद को संसदों की जननी क्यों कहा जाता है ?
उत्तर - ब्रिटिश संसद विश्व का प्राचीनतम विधानमण्डल है । इसलिए मुनरो ने ब्रिटिश संविधान को संविधानों का जनक कहा है और ब्रिटिश संसद को संसदों की जननी क्यों न हो , उनका कहा है । अन्य देशों के विधानमण्डलों की चाहे कोई भी संज्ञा क्यों न हो । उद्गम स्रोत यह ही है । 

प्रश्न 8 . " ब्रिटेन के संविधान में कोई चीज ऐसी नहीं है , जैसी दिखाई देती है और जैसी दिखाई नहीं देती । " टिप्पणी कीजिए । 
उत्तर - सिद्धान्त और व्यवहार में अन्तर के कारण मुनरो ने ऐसा कहा है । सैद्धान्तिक दृष्टि से इंग्लैण्ड में राजतन्त्र है , किन्तु व्यवहार में लोकतन्त्र है । शक्तियों के पृथक्करण के स्थान पर शक्तियों का केन्द्रीकरण व सामंजस्य है । ब्रिटिश संसद केबिनेट पर नियन्त्रण रखती है , किन्तु वास्तविकता यह है कि वह स्वयं केबिनेट से नियंत्रित होती है । 

प्रश्न 9 . ब्रिटेन में वयस्क मताधिकार का प्रचलन कब से हुआ ? 
उत्तर - 1928 के अधिनियम के द्वारा ब्रिटेन में वयस्क मताधिकार की शुरूआत की गई एवं । 21 वर्ष या इससे अधिक आयु के सभी स्त्री - पुरुषों को मताधिकार प्रदान किया गया । 

प्रश्न 10 . ब्रिटेन में किस प्रकार की शासन व्यवस्था प्रचलित है ? 
उत्तर - ब्रिटेन में संसदात्मक शासन व्यवस्था प्रचलित है । 

प्रश्न 11 . ब्रिटिश संविधान के प्रसंग में ' सामान्य विधि ' से क्या तात्पर्य है ? 
उत्तर - ब्रिटिश संविधान में पुरानी प्रथाओं एवं परम्पराओं के आधार पर ' न्यायाधीशों द्वारा बनाई गई विधि ' को सामान्य विधि कहा जाता है ।

प्रश्न 12 . ब्रिटेन की संवैधानिक विधि के बारे में प्रसिद्ध तीन टीकाओं के नाम बताइए । 
उत्तर - ( 1 ) डायसी की कृति - ' संविधान की विधि ' ।
( 2 ) एनसन की कृति - संविधान की विधि व लोकाचार ' । 
( 3 ) बेजहॉट की कृति - ' इंग्लैण्ड का संविधान ' ।

 प्रश्न 13 . " ब्रिटिश सम्राट राज करता है , शासन नहीं । " टिप्पणी लिखिए । 
उत्तर - ब्रिटिश सम्राट कार्यपालिका का औपचारिक प्रधान है जबकि शासन की शक्तियों का उपयोग मंत्रिमण्डल करता है । अतः ब्रिटिश सम्राट राज करता है , शासन नहीं । 

प्रश्न 14 . दलीय सचेतक किसे कहते हैं ? <br />अथवा <br />दलीय सचेतक के बारे में आपका क्या अभिप्राय है ? 
उत्तर - दलीय सचेतक वह व्यक्ति होता है जो संसद में अपने दल के सदस्यों को अनुशासित रखता है । वह सदन में उपस्थित रहने , विशेषकर मतदान के समय के लिए दिशा - निर्देश जारी करता है । 

प्रश्न 15 . ब्रिटिश संवैधानिक समझौतों के उन दो आज्ञा - पत्रों के नाम बताइए जिन्हें ब्रिटिश संविधान की बाइबिल कहा जाता है ।
उत्तर - मैग्नाकार्टा - 1215 , अधिकार पत्र - 1689 , तथा 1628 की अधिकार याचिका । 

प्रश्न 16 . शासन विज्ञान के क्षेत्र में ब्रिटेन की महत्त्वपूर्ण देन क्या है ? 
उत्तर - शासन विज्ञान के क्षेत्र में ब्रिटेन की महत्त्वपूर्ण देन मंत्रिमण्डलीय पद्धति है । 

प्रश्न 17 . अभिसमयों का अर्थ स्पष्ट कीजिए । <br />अथवा<br /> ब्रिटिश संविधान में अभिसमयों से आप क्या समझते हैं ?
उत्तर -  अभिसमय रीति , रिवाजों , परम्पराओं , प्रथाओं , रूढ़ियों , स्वभाव , आदतों , समझौतों एवं अभ्यासों का ऐसा समूह है जो शासन को सरलतापूर्वक चलाने में सहायक हैं । 

प्रश्न 18 . ब्रिटिश संविधान के प्रमुख अभिसमयों को बताइए । 
उत्तर - ब्रिटेन में अभिसमयों का वर्गीकरण -
 ( 1 ) राजा तथा राजमुकुट से सम्बन्धित अभिसमय ,
( 2 ) संसद से सम्बन्ध रखने वाले अभिसमय , 
( 3 ) मन्त्रिपरिषद् से सम्बन्धित अभिसमय , 
( 4 ) राष्ट्रमण्डल से सम्बन्धित अभिसमय ।

प्रश्न 19 . अभिसमय व कानून में कोई दो अन्तर बताइए । 
उत्तर - ( 1 ) कानून लिखित रूप में होते हैं इसलिए सर्वविदित होते हैं जबकि अभिसमय अलिखित होते हैं । इन्हें जानने के लिए जागरूकता की आवश्यकता होती है । 
( 2 ) कानून किसी कानून निर्मात्री संस्था द्वारा निर्मित होते हैं जबकि अभिसमय व्यावहारिक उपयोगिता के आधार पर विकसित होते हैं । 

प्रश्न 20 . ब्रिटिश संविधान के कोई दो मुख्य स्रोत बताइए । 
उत्तर - ( 1 ) लिखित खोत -  अधिकार पत्र , संसदीय अधिनियम , न्यायिक निर्णय , टीकाएँ आदि । 
( 2 ) अलिखित स्त्रोत - सामान्य विधि और संवैधानिक परम्पराएँ या रूढ़ियाँ ।

प्रश्न 21 . ब्रिटिश संविधान में जिन बातों को विवेक के आधार पर अपनाया गया है , उनका उल्लेख कीजिए । 
उत्तर - वयस्क मताधिकार गुप्त मतदान प्रणाली एवं एकल सदस्यीय निर्वाचन क्षेत्र । 
( i ) लॉर्ड सभा की तुलना में लोक सदन की श्रेष्ठता ।
( ii ) लॉर्ड सभा की रचना में सुधार । 

प्रश्न 22 . ब्रिटिश संविधान की चार प्रमुख चार विशेषताएँ बताइए । 
उत्तर - ( 1 ) अलिखित संविधान , 
( 2 ) विकसित संविधान , 
( 3 ) लचीला या सुपरिवर्तनशील संविधान , 
( 4 ) एकात्मक संविधान ।

प्रश्न 23 . ब्रिटिश संविधान में संयोगवश उत्पन्न हुई दो संस्थाओं के नाम लिखिए ।
उत्तर - ( i ) द्विसदनात्मक व्यवस्थापिका , तथा 
( ii ) मन्त्रिमण्डलात्मक व्यवस्था । 

प्रश्न 24 . अभिसमयों के कोई तीन लक्षण बताइए । 
उत्तर - ( i ) अधिसमयों का स्रोत संसद की कानून निर्मात्री शक्ति न होकर प्रथाएँ होती हैं । 
( ii ) अधिसमयों का पालन कानून या न्यायिक मान्यता के कारण नहीं किया जाता है ।
( ii ) अभिसमयों को कानूनी या न्यायिक मान्यता प्राप्त न होने पर भी व्यवहार में इनका कानूनों के समान ही पालन किया जाता है ।

प्रश्न 25 . ' गणतंत्र क्या है ? 
उत्तर - एक ऐसी शासन प्रणाली जिसमें राज्य का सर्वोच्च अधिकारी वंशक्रमानुगत राजा या रानी न होकर जनता द्वारा अप्रत्यक्ष रूप से निर्वाचित प्रतिनिधि होता है , अथवा वह देश जिसकी सत्ता जनसाधारण में निवास करती है , गणतंत्र कहलाता है । उदाहरण के लिए , भारत । 

प्रश्न 26 . राजतंत्र क्या है ? 
उत्तर - राजतंत्र अर्थात् राज + तंत्र = राजा का शासन ।<br />
राजतंत्र वह शासन प्रणाली है जिसमें एक व्यक्ति शासन का सर्वेसर्वा होता है । राजा , शासित जनता द्वारा चुना हुआ नहीं होता है बल्कि वंशगत होता है या किसी दूसरे राजा को युद्ध में पराजित करके राजा बनता है । उदाहरण के लिए , ब्रिटेन । 

प्रश्न 27 . राजपद से सम्बन्धित किन्हीं तीन अभिसमयों का उल्लेख कीजिए । 
उत्तर - ( i ) सम्राट अपने मंत्रियों के परामर्श से ही कार्य करता है । 
( ii ) सम्राट लोक सदन के बहुमत दल के नेता को प्रधानमंत्री पद ग्रहण करने के लिए आमन्त्रित करता है । 
( iii ) अभिसमय के ही आधार पर सम्राट मंत्रिमण्डल की बैठक की अध्यक्षता नहीं करता है । 

प्रश्न 28 . ब्रिटेन में राजपद की निरन्तरता के दो मनोवैज्ञानिक कारण लिखिए ।
इंग्लैण्ड में राजपद का क्या औचित्य है ? कोई तीन कारण बताइए । 
उत्तर - ( i ) राजपद राष्ट्रीय जीवन की एकता व गौरव का प्रतीक । 
( ii ) संसदीय शासन में , राजपद की उपयोगिता । 
( iii ) राजपद की राजनीतिक निष्पक्षता ।

प्रश्न 29 . अभिसमयों का पालन क्यों किया जाता है ? कोई तीन बिन्दु बतलाइए ।
उत्तर - ( i ) उपयोगिता , 
( ii ) लोकमत की शक्ति , तथा
( iii ) ब्रिटिश जाति का स्वभाव और राजनीतिक जागरूकता । 

प्रश्न 30 . ब्रिटिश संवैधानिक व्यवस्था में अभिसमयों को ' संविधान की आत्मा ' अथवा , " संविधान का केन्द्रीय तत्त्व ' क्यों कहा जाता है ? कोई दो कारण लिखिए । 
उत्तर ( 1 ) अभिसमयों द्वारा संविधान के क्रमिक तथा शांतिपूर्ण विकास में सहयोग करना , तथा
( 2 ) संसदीय लोकतंत्र के कुशल संचालन में सहयोग करना ।

प्रश्न 31 . राजमुकुट से क्या अभिप्राय है ?
उत्तर - राजमुकुट का शाब्दिक अर्थ राजसत्ता का वह प्रतीक है जिसे सम्राट राजपद ग्रहण करने के समय अपने मस्तक पर धारण करता है , परन्तु वर्तमान समय में राजमुकुट का तात्पर्य सम्पूर्ण सरकार से है । अत : वर्तमान समय में राजमुकुट का अर्थ है - राजा , मंत्रियों तथा संसद का सम्मिश्रण । 

प्रश्न 32 . “राजा कोई गलती नहीं करता ।” इस कथन के समर्थन में तीन तर्क दीजिए ।
उत्तर - ( i ) राजा कानून व न्याय का स्रोत है । 
( ii ) राजा वास्तविक शक्ति का प्रयोग नहीं : करता है ।
( iii ) राजा के कार्यों के लिए मंत्री उत्तरदायी होते हैं । 

प्रश्न 33 . इंग्लैण्ड में राजमुकुट की दो शक्तियों का उल्लेख कीजिए ।
उत्तर - ( 1 ) कार्यकारिणी शक्तियाँ - राजमुकुट इंग्लैण्ड की सर्वोच्च कार्यपालिका है । देश का समस्त शासन उसी के नाम पर चलता है । 
( 2 ) विधायी शक्तियाँ - राजमुकुट का प्रमुख विधायी कार्य संसद को बुलाना , उसका विसर्जन तथा विघटन करना है । 

प्रश्न 34 . ब्रिटिश संविधान में राजा की शक्ति से सम्बन्धित संसदीय सिद्धान्त ' अथवा ' लोकतन्त्रात्मक सिद्धान्त ' से क्या तात्पर्य है ? 
उत्तर - इसका आशय यह है कि सिद्धान्ततः राजा का शासन है । शासन की सारी शक्ति राजा में निहित है । प्रशासन का सारा कार्य राजा के नाम पर होता है परन्तु शासन तो  मन्त्रिमण्डल करता है । 

प्रश्न 35 . सम्राट एवं राजमुकुट में तीन अन्तर बताइए । 
उत्तर - राजमुकुट एक संस्था है जबकि सम्राट एक व्यक्ति है , राजमुकुट स्थायी है जबकि । सम्राट अस्थायी है , सम्राट शक्तिहीन है जबकि राजमुकुट शक्तिशाली है । 

प्रश्न 36 . ब्रिटिश संविधान में कौनसा अधिनियम सम्राट के उत्तराधिकार की व्यवस्था का वर्णन करता है ? 
उत्तर - सन् 1701 का ' उत्तराधिकार का नियम ' सम्राट के उत्तराधिकार की व्यवस्था करता है ।

प्रश्न 37 . “ क्राउन राष्ट्र के वैधानिक मानव का मुख्य प्रस्तर है । " टिप्पणी कीजिए । 
उत्तर - संविधि ने राजमुकुट की निरंकुश तथा स्वेच्छाचारी शक्तियों पर रोक लगायी है तथा । लोक - कल्याणकारी राज्य की स्थापना के लिए राजमुकुट की शक्तियों में वृद्धि की है ।


प्रश्न 38 . राजमुकुट की शक्तियों के प्रमुख दो स्रोत कौनसे हैं ? 
उत्तर - ( 1 ) राजा के परमाधिकार ( विशेषाधिकार ) , तथा 
( 2 ) संसदीय कानून ( संविधि ) । 

प्रश्न 39 . ब्रिटेन को ' मुकुटधारी गणराज्य ' क्यों कहा जाता है ? 
उत्तर - क्योंकि ब्रिटेन में आनुवांशिक राजपद मौजूद हैं , किन्तु वास्तविक कार्यपालिका प्रधानमंत्री है । इसलिए ब्रिटेन को मुकुटधारी गणराज्य कहा जाता है ।

प्रश्न 40 . ब्रिटिश राजा के तीन प्रमुख एवं स्थायी कार्य कौनसे हैं ? 
उत्तर - ब्रिटिश राजा के तीन प्रमुख एवं स्थायी कार्य - 
( 1 ) सलाह देने का अधिकार ,
( 2 ) प्रोत्साहन देने का अधिकार , 
( 3 ) चेतावनी देने का अधिकार । 

प्रश्न 41 . ब्रिटेन की मंत्रिमण्डलीय प्रणाली की कोई तीन विशेषताएँ बताइए । 
उत्तर - ( i ) सम्राट की वास्तविक कार्यपालिका से पृथक्ता , 
( i ) व्यवस्थापिका और कार्यपालिका में घनिष्ठ सम्बन्ध , तथा 
( iii ) मंत्रिमण्डल का सामूहिक उत्तरदायित्व । 

प्रश्न 42 . सामूहिक उत्तरदायित्व । 
उत्तर - सामूहिक उत्तरदायित्व संसदीय शासन प्रणाली की प्रमुख विशेषता है , जिसका अर्थ है कि मंत्रिमण्डल के सदस्य सामूहिक रूप से विधायिका के प्रति उत्तरदायी होते हैं । इसमें प्रत्येक मंत्री को अपने साथी मंत्री के लिए उत्तरदायी होना पड़ता है । यदि किसी एक मंत्री के विरुद्ध व्यवस्थापिका अविश्वास का प्रस्ताव पास कर दे तो वह समस्त मंत्रिमण्डल के विरुद्ध समझा जाता है और सम्पूर्ण मंत्रिमण्डल को त्यागपत्र देना पड़ता है । यह सामूहिक उत्तरदायित्व कहलाता है । 

प्रश्न 43 . ' कबाल ' ( C . A . B . A . L . ) से आप क्या समझते हैं ? 
उत्तर - 17वीं सदी में ग्रेट ब्रिटेन में मंत्रिमण्डल के विकास हेतु चार्ल्स द्वितीय ने सम्पूर्ण प्रिवी कौंसिल से परामर्श लेना छोड़ दिया और वह कुछ विश्वस्त सदस्यों की समिति से परामर्श लेने लगा । सदस्यों की इस अनौपचारिक समिति को ' कबाल ' नाम दिया गया क्योंकि इसके पाँचों सदस्यों के नाम 
( 1 ) क्लिफर्ड 
( 2 ) आलिंगटन , 
( 3 ) बकिंघम , 
( 4 ) एशले तथा 
( 5 ) लाडरडेम थे ।
 इन व्यक्तियों के नाम के प्रथम अक्षर को लेकर ‘ कबाल ’ शब्द बना है । 

प्रश्न 44 . ब्रिटेन में मंत्रिमण्डल की महत्ता के चार कारणों का उल्लेख कीजिए । 
उत्तर - ( i ) कठोर दलीय अनुशासन ,
( ii ) सुधार कानूनों का परिणाम ,
( iii ) लोकसदन पर अत्यधिक कार्य भार , तथा
( iv ) प्रदत्त व्यवस्थापन । 

प्रश्न 45 . ' छाया मंत्रिमण्डल ' किसे कहते हैं ? 
उत्तर - ब्रिटेन में पार्लियामेण्ट के निम्न सदन ( लोकसदन ) में विरोधी दल के नेता ना बनाया गया काल्पनिक मंत्रिमण्डल ' छाया मंत्रिमण्डल ' कहलाता है ।

प्रश्न 46 . मंत्रिपरिषद तथा मंत्रिमण्डल में दो अन्तर लिखिए । 
उत्तर - ( 1 ) मंत्रिपरिषद् एक बड़ी संस्था होती है । जिसमें लगभग 50 - 60 सदस्य होते हैं , जबकि मंत्रिमण्डल एक छोटी संस्था है जिसमें कुछ विशिष्ट स्तर के व्यक्ति होते हैं । 
( 2 ) मंत्रिमण्डल के सदस्य विभागों के अध्यक्ष होते हैं जबकि मंत्रिपरिषद् के सदस्य उनके अधीनस्थ सहायता करने के लिए होते हैं । 

प्रश्न 47 . ब्रिटिश मंत्रिमण्डल के प्रकार लिखिए । 
उत्तर - ( 1 ) संयुक्त मंत्रिमण्डल , 
( 2 ) युद्ध मंत्रिमण्डल ,
( 3 ) अन्तरंग मंत्रिमण्डल ,
( 4 ) छाया मंत्रिमण्डल ।


प्रश्न 48 . ब्रिटिश मंत्रिमण्डल कितने और कौनसे उत्तरदायित्वों के आधार पर कार्य करता है ? 
उत्तर - ब्रिटिश मंत्रिमण्डल दो प्रकार के उत्तरदायित्वों के आधार पर कार्य करता है । 
( 1 ) सामूहिक उत्तरदायित्व , तथा 
( 2 ) वैयक्तिक उत्तरदायित्व । 

प्रश्न 49 . अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलनों में ब्रिटेन का प्रतिनिधित्व कौन करता है ? 
उत्तर - राजनीतिक , आर्थिक और अन्य महत्वपूर्ण अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलनों में ब्रिटेन का प्रतिनिधित्व प्रधानमंत्री द्वारा किया जाता है ।

प्रश्न 50 . प्रधानमंत्री की स्थिति को निर्धारित करने वाला एक राजनीतिक तथा एक गैर  राजनीतिक तत्व बताइये । 
उत्तर - ( 1 ) एक राजनीतिक तत्व - प्रधानमंत्री को अपने दल तथा लोकसदन में राजनीतिक स्थिति 
( 2 )एक गैर - राजनीतिक तव - प्रधानमंत्री का अपना व्यक्तित्व । 

प्रश्न 51 . ब्रिटेन में प्रधानमंत्री का चुनाव कैसे होता है ? 
उत्तर - ब्रिटिश कॉमन सभा में बहुमत प्राप्त दल के नेता को राजा / सम्राट प्रधानमंत्री पद पर नियुक्त करता है लेकिन प्रधानमंत्री के लिए लोकसदन का सदस्य होना आवश्यक है । 

प्रश्न 52 . 1949 के ब्रिटिश संसदीय अधिनियम में लार्ड सभा के सम्बन्ध में क्या प्रावधान है ? 
उत्तर - 1949 के ब्रिटिश संसदीय अधिनियम के अनुसार लार्ड सभा साधारण विधेयक को केवल एक वर्ष के लिए ही रोक सकता है ।

प्रश्न 53 . ब्रिटेन में लोकसदन के स्पीकर के सम्बन्ध में प्रमुख परम्परा क्या है ? 
उत्तर - ब्रिटेन में लोकसदन के स्पीकर को तब तक बार - बार निर्वाचित कर दिया जाता है जब तक कि वह उस पद पर बने रहना चाहता है । 

प्रश्न 54 . ब्रिटिश कॉमन सभा के स्पीकर की चनाव प्रणाली क्या है ? 
उत्तर - बिटिश कॉमन सभा के स्पीकर का निर्वाचन प्राय : सर्वसम्मति से होता है । प्रधानमंत्री और विरोधी दल के नेता में पहले से मंत्रणा द्वारा मतैक्य स्थापित हो जाता है । अध्यक्ष पद पर निर्वाचित व्यक्ति के लिए सम्राट की स्वीकृति अनिवार्य है । वह निर्विरोध चुना जाता है । 

प्रश्न 55 . ब्रिटेन में प्रधानमंत्री की सत्ता पर तीन प्रमख नियंत्रण कौनसे हैं ?
उत्तर - ( 1 ) स्वयं के राजनीतिक दल का नियंत्रण , 
( 2 ) लोकसदन में विरोधी दल का नियंत्रण , 
( 3 ) जनमत का नियंत्रण । 

प्रश्न 56 . विधि का शासन क्या है ? 
उत्तर - विधि के शासन से अभिप्राय है - विधि सर्वोच्च है , वही शासन करती है । विधि के समक्ष सभी समान हैं और सभी को विधि का समान संरक्षण प्राप्त है । यह शासन सामान्य विधि , सामान्य न्यायालय और सामान्य न्याय पर आधारित होता है । 

प्रश्न 57 . ब्रिटेन में विधि के शासन की अवधारणा का प्रतिपादन किसने किया ? इसकी कोई तीन विशेषताएँ लिखिए । 
उत्तर - ब्रिटेन में विधि के शासन को अवधारणा का प्रतिपादन डायसी ने किया । इसका तीन विशेषताएँ हैं — 
( 1 ) कानून को सर्वोपरिता , 
( 2 ) कानून की समानता , 
( 3 ) व्यक्ति के अधिकारों की रक्षा । 

प्रश्न 58 . किस अधिनियम के तहत ब्रिटेन में न्यायपालिका को संसद एवं कार्यपालिका से स्वतंत्र किया गया है ? 
उत्तर - संवैधानिक सुधार अधिनियम के अन्तर्गत न्यायपालिका को संसद एव कार्यपालिका से स्वतंत्र किया ।

प्रश्न 59 . फौजदारी और दीवानी कानून में क्या अन्तर है ?
उत्तर - ब्रिटेन में फौजदारी कानूनों का सम्बन्ध पूरे समाज अथवा राज्य के विरुद्ध किए गए अपराधों से होता है और उनके अन्तर्गत अभियोग का संचालन राज्य की ओर से किया जाता है जबकि दीवानी कानूनों का सम्बन्ध समाज के सदस्यों अर्थात् उनके अधिकार , कर्त्तव्य तथा दायित्व सम्बन्धी विवादों से होता है और उनके अन्तर्गत व्यक्तियों के द्वारा स्वयं ही अभियोग चलाए जाते हैं , राज्य के द्वारा नहीं । 

प्रश्न 60 . आधुनिक ब्रिटेन में कितने प्रकार के क़ानून पाए जाते हैं ?
उत्तर - आधुनिक ब्रिटेन में चार प्रकार के कानून पाए जाते हैं — 
( 1 ) सामान्य कानून , 
( 2 ) औचित्यपूर्ण कानून ,
( 3 ) संसदीय कानून , 
( 4 ) प्रदत्त व्यवस्थापन पर आधारित कानून 

प्रश्न 61 . ब्रिटेन में कानून के असंहिताबद्ध होने का प्रमुख कारण क्या है ? 
उत्तर - ब्रिटेन में सामान्य विधि तथा औचित्यपूर्ण विधि विकास का परिणाम है , अत : वहाँ कानून का असंहिताबद्ध रूप पाया जाता है । 

प्रश्न 62 . “ विधि के शासन से सम्बन्धित ” डायसी की पुस्तक का नाम क्या है ?
उत्तर - ' इण्ट्रोडक्शन टू द स्टडी ऑफ द लॉ ऑफ द कॉन्स्टीट्यूशन ' में डायसी ने ब्रिटिश कानून तथा न्याय व्यवस्था की एक प्रमुख विशेषता विधि के शासन ' को माना है ।

प्रश्न 63 . प्रदत्त व्यवस्थापन से आप क्या समझते हैं ?
उत्तर - प्रदत्त व्यवस्थापन से आशय यह है कि संसद कानूनों की केवल मोटी रूपरेखा निर्धारित कर देती है तथा विभिन्न नियम एवं उपनियम बनाने का कार्य प्रशासनिक विभागों को सौंप दिया जाता है । विकास के दो कारण -
( 1 ) लचीले कानून ,
( 2 ) संसद के पास समय की कमी । 

प्रश्न 64 . ' ग्लोटिन ' से आपका क्या अभिप्राय है ?
उत्तर - ब्रिटेन में अनावश्यक वाद - विवाद को समाप्त करने के लिए जिस प्रक्रिया को अपनाया जाता है , वह ग्लोटिन अथवा विभागीय समापन का रूप कहलाता है । 

प्रश्न 65 . लोक सेवकों के कोई चार कार्य बताइए । 
उत्तर  - ( i ) नीति निर्धारण में मंत्रियों को सहायता देना 
( ii ) निर्धारित नीतियों को लागू करना , 
( iii ) विधि - निर्माण सम्बन्धी कार्य करना , तथा
( iv ) मंत्रियों को परामर्श देना । 

प्रश्न  66 . ब्रिटेन में नौकरशाही के उदय के दो प्रमुख कारण क्या हैं ?
उत्तर  - ( i ) संसद का कानून निर्माण सम्बन्धी कार्य बहुत अधिक बढ़ जाना , तथा 
( ii ) पुलिस राज्य के स्थान पर लोक - कल्याणकारी राज्य ' की धारणा का विकास । 

प्रश्न 67 . ब्रिटेन में राज्य सेवाएँ कितने प्रकार की हैं ? नाम लिखिए ।
उत्तर -  ब्रिटेन में राज्य सेवाएँ दो प्रकार की हैं - 
( 1 ) सैनिक सेवा ( Military Service ) , तथा 
( 2 ) असैनिक सेवा ( Civil Service ) । 
वस्तुतः असैनिक सेवा को ही लोकसेवा अथवा नागरिक सेवा कहा जाता है और इससे ही गैर - राजनीतिक ( स्थायी ) कार्यपालिका का निर्माण होता है । 

प्रश्न 68 . ब्रिटिश संसद के दोनों सदनों के नाम लिखिए । 
उत्तर - ( 1 ) लार्ड सभा ( हाउस ऑफ लाईस ) , 
( 2 ) लोक सदन ( हाउस ऑफ कॉमन्स ) 

प्रश्न 69 . लार्ड सभा में किसी विधेयक पर होने वाले मतदान के संदर्भ में लॉर्ड चांसलर की स्थिति बताइए ।
उत्तर - लॉर्ड चांसलर को मतदान में भाग लेने का अधिकार तो है , लेकिन उसे निर्णायक मत देने का अधिकार नहीं है ।

प्रश्न 70 . प्रवर समिति व सत्रीय समिति में प्रमख अन्तर क्या है ? 
उत्तर - प्रवर समिति किसी विधेयक विशेष के संदर्भ में बनाई जाती है और उसके साथ ही यह समाप्त हो जाती है । सत्रीय समिति किसी एक पूरे सत्र के लिए बनाई जाती है । ये दोनों समितियाँ ब्रिटिश लोक सदन में अन्तर्निहित हैं । 

प्रश्न 71 . ब्रिटेन में लोकसदन के अध्यक्ष के चुनाव तथा राजनीति में उसके आचरण के बारे में प्रचलित परम्पराएँ क्या हैं ? 
उत्तर - ब्रिटिश लोकसदन के अध्यक्ष का निर्वाचन सत्तापक्ष एवं विपक्ष की आपसी सहमति से होता है । वह राजनीति में निष्पक्षता एवं तटस्थता का आचरण करता है । 

प्रश्न 72 . लार्ड सभा की उपयोगिता बताइए । 
उत्तर - ( 1 ) यह लोकसदन की स्वेच्छाचारिता पर अंकुश रखती है ।
( 2 ) यह लोकसदन द्वारा पारित विधेयकों को पुनर्विचार हेतु लौटाती है । 
( 3 ) यह समाज के निहित स्वार्थों और वर्गों का प्रतिनिधित्व करती है । 
( 4 ) यह जनमत को प्रभावित करने का प्रमुख साधन है ।

प्रश्न 73 . ब्रिटिश संसद को संसदों की जननी क्यों कहा जाता है ? कोई दो कारण दीजिए । 
उत्तर - ( 1 ) ब्रिटिश संसद , विश्व का प्राचीनतम विधानमण्डल है । 
( 2 ) ब्रिटिश संसद ने संसदीय लोकतांत्रिक पद्धति का श्रेष्ठ रूप विश्व को प्रदान किया है । 

प्रश्न 74 . ब्रिटिश संसद की सम्प्रभुता से आपका क्या तात्पर्य है ? 
उत्तर - ब्रिटिश संसद सभी विषयों के सम्बन्ध में कानून का निर्माण कर सकती है और इसके द्वारा निर्मित कानून को किसी के भी द्वारा चुनौती नहीं दी जा सकती है । इस प्रकार कानून निर्माण के क्षेत्र में ब्रिटिश संसद को प्राप्त इस असीमित शक्ति को ही संसद की सम्प्रभुता कहा जाता है । 

प्रश्न 75 . व्यवहार में संसद की कानूनी सर्वोच्चता एवं सम्प्रभुता पर लागू होने वाले चार प्रतिबन्ध लिखिए ।
उत्तर ( 1 ) जनमत द्वारा समर्थित नैतिक बन्धन , 
( 2 ) संसदीय परिपाटियाँ , 
( 3 ) संसदीय अधिनियम , तथा 
( 4 ) विधि के शासन की धारणा ।

प्रश्न 76 . ब्रिटिश संसद की जन्मदात्री संस्था कौनसी है ? 
उत्तर - महापरिषद यानी ग्रेट कौंसिल ।

प्रश्न 77 . ब्रिटेन में संसदीय सर्वोच्चता के कोई दो कारण बताइए । 
उत्तर - ( 1 ) कानून निर्माण के क्षेत्र में सर्वोच्च शक्ति ब्रिटिश संसद के पास है । 
( 2 ) ब्रिटिश संसद संसदों की जननी है । 

प्रश्न 78 . ब्रिटेन के दो मुख्य राजनीतिक दलों के नाम बताइए । 
उत्तर - अनुदार दल , तथा मजदूर दल ।


प्रश्न 79 . ब्रिटिश दलीय व्यवस्था की दो विशेषताएँ लिखिए ।
उत्तर - ( 1 ) द्विदलीय पद्धति का पाया जाना , 
( 2 ) केन्द्रीकृत संगठन व कठोर अनुशासन पर आधारित होना । 

प्रश्न 80 . द्वि - दलीय व्यवस्था को परिभाषित कीजिए ।
उत्तर - जब किसी देश में दो लगभग समान रूप से शक्तिशाली एवं सुसंगठित राजनीतिक दल हों और वे देश की राजनीति पर छाए रहते हों तो यह द्वि - दलीय व्यवस्था कहलाती है । इसमें दलों की संख्या दो से अधिक हो सकती है परन्तु वर्चस्व केवल दो दलों का ही होता है । 

प्रश्न 81 . श्रमिक दल यानी लेबर पार्टी के प्रमुख चार सिद्धान्त लिखिए । 
उत्तर - ( 1 ) यह दल लार्डसभा का विरोधी है । 
( 2 ) यह साम्राज्यवाद का घोर विरोधी है ।
( 3 ) लोकतंत्रीय उपायों में विश्वास रखता है । 
( 4 ) शोषण का विरोधी है । 

प्रश्न 82 . ब्रिटेन के अनुदार दल के दो प्रमुख सिद्धान्त लिखिए । 
उत्तर - ( 1 ) राजतंत्र , चर्च के विशेषाधिकारों तथा लॉर्ड सभा का समर्थन करना , तथा 
( 2 ) जमींदार व पूँजीपति वर्ग के हितों की रक्षा करना । 

प्रश्न 83 . ब्रिटिश दलीय पद्धति में उदार दल की सबसे नीचे की इकाई तथा ऊपर की इकाई को किस नाम से जाना जाता है ? 
उत्तर - ब्रिटिश दलीय पद्धति में उदार दल की सबसे नीचे की इकाई ' निर्वाचन क्षेत्रीय संगठन ' है और सबसे ऊपर की इकाई ' राष्ट्रीय उदारवादी संघ ' है । 

प्रश्न 84 . ब्रिटेन में ' साधारण विधेयक ' व ' धन विधेयक ' में अन्तर क्यों किया जाता है ? 
उत्तर - साधारण विधेयकों का सम्बन्ध आय या व्यय से नहीं होता जबकि धन विधेयकों का सम्बन्ध करारोपण , सरकार द्वारा ऋण लेने आदि से होता है , अतः इनमें अन्तर किया जाता है । 

प्रश्न 85 . ब्रिटिश लार्ड सभा के किन्हीं चार प्रकार के सदस्यों का उल्लेख कीजिए ।
उत्तर - आध्यात्मिक लार्ड , वंशगत पीयर , आजीवन पीयर , लार्डस् ऑफ अपील । 

प्रश्न 86 . ग्रेट ब्रिटेन में लार्ड सभा की आलोचना के कोई दो बिन्दु लिखिए । 
उत्तर - दो आलोचनाएँ - ( 1 ) लार्ड सभा एक अलोकतांत्रिक संस्था है ।
( 2 ) लार्ड सभा केवल निहित स्वार्थों का दुर्ग है । 

प्रश्न 87 . ब्रिटिश लार्डसभा में सुधार हेत कौन - कौनसे अधिनियम बनाए गए हैं ? 
उत्तर - ( 1 ) 1911 का संसदीय अधिनियम ,
( 2 ) 1949 का संसदीय अधिनियम , 
( 3 ) 1958 ) का आजीवन पीयर अधिनियम ,
( 4 ) 1963 का पीयर अधिनियम । 

प्रश्न 88 . ' कंगारू समापन ' ( Kangaroo Closure ) किसे कहते हैं ? 
उत्तर - ब्रिटिश लोकसदन में जब किसी विधेयक पर इतने अधिक संशोधन प्रस्तुत किए जाते हैं कि उन सभी पर विचार करना संभव नहीं होता है तो लोकसदन के अध्यक्ष द्वारा कंगारू समापन की प्रक्रिया अपनाई जाती है । अध्यक्ष सम्पूर्ण सदन की समिति के सभापति की मदद से प्रस्तुत संशोधनों में से महत्त्वपूर्ण संशोधनों को छाँट लेता है और शेष को छोड़ देता है , यह कंगारू समापन कहलाता है ।


Download PDF Of Question Answer Related To Constitution Of Great Britain

आप सभी स्टूडेंट्स नीचे दिए गये डाउनलोड बटन पर क्लिक करके यह पीडीऍफ़ डाउनलोड कर सकते हो | और इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते हो |
Download PDF
469 KB

Post a Comment

0 Comments

Promoted Posts