Join Telegram Group

पादप वृद्धि (Plant Growth )_12th Class Biology

Plant Growth Questions and one liners

वृद्धि वह जैविक क्रिया है जिसमें जीव अपने आकार , भार , आयतन एवं रूप में अनुत्क्रमणीय परिवर्तन करता है ।

पादपों में वृद्धि सामान्यत : उनके अग्रस्थ भागों में होती है ।

पादपों की वृद्धि विभज्योतकों की कोशिकाओं में विभाजन के कारण होती है । वृद्धि में तीन अवस्थाएँ पायी जाती हैं- ( i ) कोशिका विभाजन , ( ii ) कोशिका विस्तार , ( iii ) कोशिका विभेदन तथा अंग निर्माण ।

पादपों की वृद्धि एवं समय का ग्राफ S रूप से प्राप्त होता है ।

पादपों की वृद्धि का मापन आक्जैनोमीटर द्वारा किया जाता है ।

जीवों में वृद्धि का नियन्त्रण बाह्य तथा आन्तरिक कारकों के द्वारा होता है । जल , O2 , भोज्य पदार्थ , प्रकाश , ताप आदि प्रमुख बाह्य कारक हैं जो पादप शरीर के बाहर स्थित होते हैं ।

वृद्धि नियन्त्रक आन्तरिक कारक है जो पादप शरीर के अन्दर विशिष्ट रासायनिक पदार्थों के रूप में बनते हैं जिन्हें हार्मोन कहते हैं ।

ऑक्सिन , जिब्बरेलिन , साइटोकानिन , एथिलीन तथा एब्सिसिक अम्ल प्रमुख पादप हॉर्मोन हैं ।

हार्मोन चूँकि वृद्धि का नियन्त्रण करते हैं , इस कारण इन्हें वृद्धि नियन्त्रक या नियामक पदार्थ भी कहते हैं ।

पादप हार्मोन सामान्यत : पादप के शीर्ष भागों में बनते हैं तथा फ्लोएम द्वारा सम्पूर्ण शरीर में वितरित होते हैं

पुष्पन की क्रिया को नियन्त्रित करने वाले हॉर्मोनों को पुष्पन हॉर्मोन कहते हैं । जैसे - वर्नेलिन तथा फ्लोरीजन ।

वर्नेलिन तथा फ्लोरीजेन , जिबरेलिन के प्रकार हैं ।

वृद्धि करने वाले पादप अंगों पर प्रकाश के प्रभाव को दीप्तकालिता कहते हैं ।

बीजों के अंकुरण पर ताप के प्रभाव को वसन्तीकरण कहते हैं ।

जीवों में उम्र के साथ होने वाली ह्रासी परिवर्तनों को जीर्णता कहते ।

बीजों के निर्माण से अंकुरण तक के काल को बीज प्रसुप्ति कहते हैं । प्रसुप्ति को वसन्तीकरण तथा हॉर्मोन के प्रयोग से कम या ज्यादा किया जा सकता है ।

पादपों की हरी पत्तियों की प्लाज्मा झिल्ली में फाइटोक्रोम नामक एक वर्णक पाया जाता है जो प्रकाश के प्रभाव से पादपों में फ्लोरीजेन हॉर्मोनों के निर्माण को प्रेरित करता है ।

महत्वपूर्ण प्रश्न

कौनसे पादपों के बीजों में प्रसुप्ति नहीं होती है ? मटर व राइजोफोरा के बीजों में ।

शीतोपचार द्वारा पुष्पन प्रेरित करने को क्या कहते हैं ? वसन्तीकरण ।

सम्पूर्ण पादप जीर्णता के उदाहरण लिखिए । गेहूँ , सरसों , चना आदि एक वर्षीय पादप ।

विलगन स्तर बनने से प्रायः पादप की कौनसी रचनाएं झड़ने लगती है ?पर्ण , पुष्प व फल ।

पर्ण जीर्णता को प्रेरित करने वाले हार्मोन का नाम लिखिए । एब्सिसिक अम्ल ।

दीप्तिकाल एवं दीप्तिकालिता किसे कहते हैं ? पुष्पन की क्रिया के लिये आवश्यक प्रकाश की समयावधि जो कि पुष्पन क्रिया के लिये आवश्यक होती है उसे दीप्तिकाल कहते हैं । इस प्रकार पुष्पन क्रिया के रूप में पौधों का दीप्तिकाल के प्रति अनुक्रिया प्रदर्शित करना ही दीप्तिकालिता कहलाता है ।

दीप्तिकालिता की खोज सर्वप्रथम किसने की ? गार्नर एवं एलार्ड ने की ।

बिलाक्सी प्रजाति के पादपों के लिये वैज्ञानिक मैरीलेण्ड मैमोथ ने क्या जानकारी दी ।सन् 1920 में इन्होंने देख कि तम्बाकू की मैरीलैण्ड मैमोथ एवं सोयाबीन की बिलाक्सी प्रजाति अपनी अच्छी कायिक वृद्धि के बावजूद भी ग्रीष्म ऋतु में पुष्य उत्पन्न नहीं कर पाती है , लेकिन इन प्रजातियों को शीत ऋतु में ग्रीन हाउस में उगाने तथा उनके नवोद्भिदों को बसन्त ऋतु के प्रारंभ में खेतों में स्थानान्तरित करने पर उनमें ग्रीष्म ऋतु के प्रारंभ में ही पुष्पन होने लगता है ।

लघु दिवस पादप किसे कहते हैं , उदाहरण दीजिये । वे पादप जो निश्चित क्रान्तिक दीप्किाल से कम अवधि का दीप्तिकाल उपलब्ध होने पर पुष्पन करते हैं , उन्हें लघु दिवस पादप ( Short Day Plant = SDP ) कहते हैं । जैसे - तम्बाकू , सोयाबीन , कॉसमॉस , गुलदाऊदी , गन्ना , चिनोपोडियम , शकरकन्द , सरसों व डहेलिया इत्यादि लघु दिवसीय पादप हैं ।

दीर्घ दिवसीय पादप या दीर्घ दीप्तिकाल पौध किसे कहते हैं ? उदाहरण दीजिये । वे पौधे जिन्हें पुष्प उत्पन्न करने के लिए 12 घण्टे से अधिक सतत् लम्बे दिन ( 14 से 16 घण्टे ) अर्थात् क्रान्तिक दीप्किाल से अधिक अवधि के दीप्किाल की आवश्यकता होती है , उन्हें दीर्घ दिवसीय पादप कहते हैं । जैसे - हेनबेन , चुकन्दर , मूली , जई , पालक , गाजर , आलू , जौ , गेहूँ इत्यादि दीर्घ दिवसीय पादप हैं ।

दिवस उदासीन पादप किसे कहते हैं ? उदाहरण दीजिये । वे पादप जिनमें पुष्पन प्रक्रिया पर दीप्किाल का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है अर्थात् वे पादप जो लगभग सभी संभव दीप्तिकालों में पुष्पन करने में समर्थ होते हैं , उन्हें दिवस उदासीन पादप कहते हैं । उदाहरण - मक्का , मिर्च , टमाटर , कपास व सूर्यमुखी आदि ।

फ्लोरीजन के बारे में बताइये । यह एक हार्मोन है , यह हार्मोन , पादपों को एक विशिष्ट दीप्तिकाल मिलने पर पादपों के पर्णों में पुष्पों के निर्माण को प्रेरित करने वाला हार्मोन है ।

फाइटोक्रोम किसे कहते हैं ? पादपों की पत्तियों के उत्तकों में एक प्रकाश ग्राही वर्णक पाया जाता है जिसे फाइटोक्रोम कहते हैं । यह एक चमकीला नीला या नील हरित प्रोटीन युक्त पदार्थ है ।

प्रसुप्ति के बारे में बताइये । कुछ पादपों में पूर्ण विकसित बीजों को उनके बनने के तुरन्त बाद अनुकूल परिस्थितियाँ उपलब्ध कराने पर अंकुरित नहीं होते है तथा शरीर क्रियात्मक रूप से निष्क्रिय रहते हैं । बीजों की अंकुरण की इस अस्थाई निलम्बित अवस्था को प्रसुप्तावस्था ( Dormant stage ) तथा इस परिघटना को प्रसुप्ति ( Dormancy ) कहते हैं

बैकने रोग किसे कहते हैं ? सन् 1890 में जापान में चावल ( धान ) की फसल में कुछ चावल के पादप असामान्य लम्बे व पुष्प विहिन देखे गये । चावल के इस रोग को बैकने रोग ( Bakanae disease ) नाम दिया गया ।

बैकने रोग किस कवक के संक्रमण से होता है ?जिब्बरेला फ्यूजीकोराई नामक कवक से

पादप हार्मोन का नाम लिखिए जो आलू के कन्दों को संग्रहित करने में प्रयोग किया जाता है ?पादप हार्मोन NAA ( नेपथेलीन ऐसीटिक अम्ल ) आलू के कन्दों को संग्रहित करने के लिए प्रयोग में लिया जाता है ।

पादप वृद्धि को परिभाषित कीजिये । " पादपों में उपापचयी क्रियाओं के फलस्वरूप आकार व आयतन में हुई स्थायी ( Permanent ) तथा अप्रत्यावर्ती परिवर्तन जिससे शुष्कभार ( dry weight ) व जीव द्रव्य ( Protoplasm ) की मात्रा में बढ़ोत्तरी हो उसे पादप वृद्धि कहते हैं ।

विभज्योतक उत्तक किसे कहते हैं ? उच्च श्रेणी के पादपों के वृद्धि स्थलों पर पाये जाने वाले वृद्धिकारी ऊतक को विभज्योतक कहा जाता है ।

स्थिति के आधार पर विभज्योतक को कितने भागों में विभक्त करते हैं ? विभज्योतक की कोशिकाओं में विभाजन एवं निरन्तरा की क्षमता पायी जाती है । स्थिति के आधार पर विभज्योत्तक को निम्न तीन वर्गों में बाँटा गया है ( 1 ) शीर्षस्थ विभज्योतक ( Apical Meristem )
( 2 ) अन्तर्वेशी विभज्योतक ( Intercalary Meristem )
( 3 ) पावीय विभज्योतक ( Lateral Meristem )

वृद्धि हार्मोन किसे कहते हैं ? ऐसे विशिष्ट कार्बनिक यौगिक जो पादपों में अत्यन्त सूक्ष्म मात्रा में बनते हैं तथा वृद्धि व उपापचयी क्रियाओं को प्रभावित और नियन्त्रित करते हैं , उन्हें वृद्धि नियामक या वृद्धि नियन्त्रक या वृद्धि हार्मोन या पादप हार्मोन कहते हैं

थिमेन ने पादप हार्मोन के लिये किस शब्द का प्रयोग किया ? फाइटोहार्मोन

ऑक्सिन किसे कहते हैं ? वे कार्बनिक पदार्थ जो 0.1 मोलर से कम सान्द्रता में प्ररोह के विवर्धन को अभिवृद्धित करते हैं , ऑक्सिन कहते हैं ।

ऑक्सिन की रासायनिक प्रकृति बताइए । कोग्ल एवं उसके सहयोगियों ने मानव मूत्र से फिर एक अन्य पदार्थ अलग किया तथा उसे हेटरोऑक्सिन ( Heteroausin ) नाम दिया । इसे इण्डोल - 3 - एसिटिक अम्ल ( IAA ) कहते हैं तथा इसका आण्विक सूत्र C10H9O2N होता है ।

पादप वृद्धि के अन्तर्गत किसकी बढोत्तरी होती है ? शुष्क भार एवं जीवद्रव्य की ।

स्थिति के आधार पर विभज्योतक के प्रकार लिखिए । शीर्षस्थ , अन्तर्वेशी व पार्वीय ।

उच्च पादपों में वृद्धि स्थलों ( प्ररोह , शीर्ष व मूल शीर्ष ) पर कौनसा वृद्धिकारी ऊतक पाया जाता है ?विभज्योतक ऊतक ।

किस वृद्धि प्रावस्था में कोशिकाएं संरचनात्मक , कार्यिकीय व जैव रासायनिक रूप से विभेदित हो जाती है ? कोशिका विभेदन प्रावस्था में

ज्यामितीय वृद्धि का एक उदाहरण लिखिए । युग्मनज के प्रारंभिक विभाजन ।

सिग्मॉइड वृद्धि वक्र किस आकृति का बनता है ? ' S ' की आकृति का ।

आर्क आक्जेनोमीटर से किसका मापन किया जाता है ? पादप की लम्बाई का ।

कौनसे रंग का प्रकाश पादप वृद्धि के लिए सबसे उपयुक्त रहता है ?लाल रंग का ।

उच्च श्रेणी के पादपों की सामान्य वृद्धि के लिए किस परास के तापमान की आवश्यकता होती है ?5 ° C से 35 ° C के बीच ।

प्रकाश की तीव्रता अधिक होने पर वृद्धि पर क्या प्रभाव पड़ता है ? वृद्धि मन्द हो जाती है ।

सबसे पहले दीप्तिकालिता की खोज किसने की ? गार्नर व एलार्ड ने ।

दीप्तिकाल के ग्राही अंगों का नाम लिखिए ।पत्तियाँ व कलिकाएँ ।

अल्परात्रि पादपों को कितनी अवधि के सतत प्रकाश की आवश्यकता होती है ? 14-16 घण्टे ।

फ्लोरीजन परिकल्पना के अनुसार फ्लारीजन का निर्माण कहा होता है । पर्णों में ।

Pr फाइटोक्रोम कौनसे प्रकाश का अवशोषण करता है ? लाल विकिरणों ( 660 nm तरंगदैर्ध्य ) वाले प्रकाश का ।

100 प्रकार के जिब्बरेलिन के नाम बताइये । इन्हें GA1 , GA2, GA3 ......... GA100 आदि नामों से जाना जाता है ।

C19 से C20 तक कार्बन परमाणु वाली वलय को क्या कहते हैं ।गिबेन कहते हैं ।

GA1 व GA2 का रासायनिक सूत्र दीजिये । GA1 → C19H24O6 व GA2 C19H26O6

वृद्धि अवरोधक किसे कहते हैं ? वे हार्मोन या रासायनिक पदार्थ जो वृद्धि की दर को कम करते हैं , उन्हें वृद्धि अवरोधक हार्मोन कहते हैं । एब्सिसिक अम्ल वृद्धि अवरोधक प्रमुख हार्मोन है ।

वैज्ञानिक वेयरिंग ने एसर नामक पादप की पर्णों से एक वृद्धि 7 अवरोधक पदार्थ को अलग किया , इसे किस नाम से पुकारा जाता है डोर्मिन

डार्मिन व एब्सिसिन दोनों एक ही पदार्थ हैं , जिसे क्या कहते है ? एब्सिसिक अम्ल ।

पादप हार्मोन के लिए फाइटोहार्मोन शब्द का प्रयोग किसने किया ?थिमेन ( 1948 ) ने ।

वृद्धि प्रवर्धक हार्मोन कौन - कौनसे है ?ऑक्सिन , जिब्बरेलिन , साइटोकाइनिन व इथाइलिन ।

ग्रीक शब्द Auxine का शब्दार्थ लिखिए ।वृद्धि करना ( to grow )

बॉयसन व जेनसन ने अपने वृद्धि सम्बन्धित प्रयोग किस पादप पर किये थे ?जई ( Avena sativa ) पर ।

ऑक्सिन की खोज का श्रेय किसे दिया जाता है ? एफ डब्ल्यू . वेन्ट को

ऑक्सिन का सान्द्रण स्तम्भ के प्रकाशित भाग में अधिक होता है या अप्रकाशित भाग में ? अप्रकाशित भाग में ।

शीर्षस्थ प्रमुखता कौनसे हार्मोन के कारण होती है ?ऑक्सिन या IAA के कारण ।

एक खरपतवारनशी ऑक्सिन का नाम लिखिए । 2-4 D

कौनसा पादप हार्मोन बोल्टकरण ( Bolting ) के लिए उपयुक्त है ? जिब्बरेलिन ।

कोशिका विभाजन , दीर्घन व विभेदन से सम्बन्धित एक पादप हार्मोन का नाम लिखिए । साइटोकाइनिन ।

एक प्राकृतिक गैसीय हार्मोन का नाम लिखिए । इथाइलिन ।

एक पादप वृद्धि अवरोधक हार्मोन का नाम लिखिए । एब्सिसिक अम्ल ।

फलों को पकाने से सम्बन्धित पादप हार्मोन का नाम लिखिए । इथाइलिन ।

सबसे पहले कौनसे पादप हार्मोन की खोज हुई थी ? ऑक्सिन की ( सूत्र- C18H32O 5

फाइटोक्रोम की खोज किसने की थी ? बोर्थविक एवं हैण्डरिक्स ने ।

पादपों में कौनसे वृद्धि नियन्त्रक स्ट्रेस हार्मोन के रूप जाना जाता है ? ABA ( एब्सिसिक अम्ल )

उस पादप हार्मोन का नाम लिखिए जिसे अभी तक पृथक नहीं किया गया ? फ्लोरीजन ।

पतझड़ के समय पादपों में कौनसा हार्मोन सबसे अधिक सक्रिय होता है ? ABA ( एब्सिसिक अम्ल )

पत्तागोभी के रोजेट पादप को लम्बे प्ररोह में परिवर्तित करने के लिए कौनसे पादप हार्मोन का छिड़काव करना होगा ? G.A. ( जिब्बरेलिन )

समग्र वृद्धिकाल से आप क्या समझते हैं ? अधिकतम वृद्धि काल जिसके दौरान अधिकतम वृद्धि होती है , उसे समग्र वृद्धि काल ( Grand Period of growth ) कहते हैं । ( सेक्स , 1882 के अनुसार )

कौनसा पदार्थ फलों के कृत्रिम परिपक्वन के लिए प्रयुक्त किया जाता है ? इथेफॉन ( 2 - Chloro Ehtyl Phosphoric acid )

शीतन उपचार के अनुकूल तापक्रम कौनसा है ? 0 ° C से 5 ° C तापक्रम ।

जियाटिन क्या है ? यह प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला प्रथम साइटोकाइनिन है । लेथम और मिलर ने इसे मक्का के भ्रूणपोष से अलग किया था ।

वर्नेलिन क्या होता है ? वर्नेलिन पुष्पन क्रिया को आरंभ करने वाले हारमोन फ्लोरीजन ( Florigen ) का पूर्वगामी ( Precursor ) है । इस पूर्वगामी का निर्माण वसन्तीकरण के कारण बीजों में होता है ।

काइनेटिन का रासायनिक नाम क्या है ? 6 - फरफ्यूरिल अमीनो प्यूरीन ।

दो संश्लिष्ट ऑक्सिन के नाम बताइये । ( i ) NAA ( नेप्थेलिन एसिटिक अम्ल )
( ii ) IBA ( इण्डोल 3 - ब्यूटाइरिक अम्ल )

अनिषेकफलन को किस हार्मोन द्वारा प्रेरित किया जा सकता है ?ऑक्सिन व जिब्बरेलिन हार्मोनों द्वारा ।

फोटोप्लास्टिक बीज किसे कहते हैं ? कुछ बीजों का अंकुरण प्रकाश की अवधि , गुणवत्ता व मात्रा के प्रति अति संवेदी होता है , ऐसे बीजों को फोटोब्लास्टिक ( Photoblastic ) कहते हैं । उदा . - तम्बाकू व कैप्सेला के बीज ।

बॉल्टिंग प्रभाव क्या है ? कुछ पौधों के तने पर पत्तियाँ बहुत पास - पास राजेट फार्म पायी जाती है । यदि इन पर जिबरेलिन हारमोन का छिड़काव कर दिया जाए तो पौधे के पर्व की लम्बाई बढ़ जाती है और पत्तियाँ दूर - दूर हो जाती है । इसे बॉल्टिंग प्रभाव कहते हैं ।

" द पॉवर ऑफ मूवमेन्ट इन प्लाण्टस " नामक पुस्तक के लेखक का नाम लिखिए । फ्रेन्सिस डार्विन ।

वसन्तीकरण किसे कहते हैं ? शीत उपचार द्वारा पादपों में पुष्पन की योग्यता अर्जन करने को वसन्तीकरण कहते हैं ?

विलगन किसे कहते हैं ? पादपों में पत्तियों , पुष्पों एवं फलों का मातृ पादप से पृथक होकर गिरने को विलगन कहते हैं ।

Download PDF

Download PDF
138 KB
Due to some technical error, you are not able to download PDF at this time. Still You can download PDF in our telegram channel.

Post a Comment

0 Comments

Promoted Posts