Join Telegram Group

गतिकी प्रश्नोत्तरी For IIT , GATE (PDF Download)

Kinematics In Hindi

किसी गतिमान वस्तु का त्वरण ज्ञात किया जा सकता है ?
वेग - समय ग्राफ के ढाल द्वारा

स्वतन्त्रतापूर्वक गिरती किसी वस्तु का समय - त्वरण वक्र होगा
समय अक्ष के समान्तर कोई रेखा

x = 0 पर स्थित एक कण समय t = 0 से धनात्मक x - दिशा में ‘v’' वेग से गतिशील है जो कि v = α√x प्रकार से परिवर्तित करता है । कण का विस्थापन समय के साथ इस प्रकार परिवर्तित होता है ?
t2

मन्दित गति के लिए वेग - समय ग्राफ का ढाल है ?
ऋणात्मक

यदि दो राशियों का परस्पर ग्राफ सरल रेखा हो तो दोनों राशियाँ
अचर होती हैं

विस्थापन - समय आलेख के ढाल ( tanθ ) से . . . . और वेग - समय आलेख के ढाल से . . . . . का मान प्राप्त होता है ।
वेग , त्वरण

समय - विस्थापन ग्राफ से क्या निष्कर्ष निकलता है जब ग्राफ समय - अक्ष के समान्तर सरल रेखा में है ?
इसका अर्थ यह है कि समय के साथ वस्तु की स्थिति नहीं बदल रही है अतः वस्तु विरामावस्था में है ।

समय - विस्थापन ग्राफ से क्या निष्कर्ष निकलता है जब ग्राफ समय - अक्ष के साथ न्यून कोण बनाती हुई सरल रेखा है ?
इसका अर्थ है कि वस्तु एक स्थिर ( एक समान ) धनात्मक वेग से गतिमान है ।

समय - विस्थापन ग्राफ में समय - अक्ष के साथ अधिक कोण बनाती सरल रेखा है तब वस्तु की स्थिति कैसी होगी ?
वस्तु एकसमान ऋणात्मक वेग से गतिमान होगी ।

समय - विस्थापन ग्राफ में ढाल जितना अधिक होता है , वस्तु का वेग कैसा होगा ?
वस्तु का वेग भी उतना ही अधिक होगा ।

क्या समय - विस्थापन ग्राफ समय - अक्ष के लम्बवत् हो सकता है ? यदि नहीं तो क्यों ?
समय - विस्थापन ग्राफ कभी भी समय - अक्ष के लम्बवत् नहीं हो सकता है क्योंकि ग्राफ का लम्बवत् होना अनन्त वेग को प्रदर्शित करता है , जो असम्भव है ।

समय - वेग ग्राफ तथा किसी समय - अन्तराल के संगत समय - अक्ष के बीच घिरा क्षेत्रफल उस समय - अन्तराल में वस्तु द्वारा चली गई दूरी क्या व्यक्त करती है ?
विस्थापन ।

समय - वेग ग्राफ में यदि यह आलेख समय - अक्ष से अधिक कोण बनाती हुई सरल रेखा है तो इसका क्या अर्थ है ?
इसका अर्थ है कि वस्तु एक नियत ऋणात्मक त्वरण से गतिमान है ।

समय - वेग ग्राफ एक वक्र है तो इसका क्या तात्पर्य है ? लिखिए ।
इसका तात्पर्य है कि वस्तु असमान त्वरण से गतिमान

समय - वेग आलेख समय - अक्ष के समान्तर सरल रेखा है , तब इसका क्या अर्थ है ?
इसका अर्थ यह है कि वस्तु नियत वेग ( शून्य त्वरण ) से गतिमान है ।

समय - वेग आलेख समय - अक्ष के साथ न्यून कोण बनाती हुई सरल रेखा है , तब इसका क्या तात्पर्य है ?
इसका तात्पर्य यह है कि वस्तु एक नियत धनात्मक त्वरण से गतिमान है ।

समय - वेग आलेख एक वक्र है । तब इसका क्या तात्पर्य है ?
इसका तात्पर्य है कि वस्तु असमान त्वरण से गतिमान है ।

किसी एक समयान्तराल में वस्तु के विस्थापन में परिवर्तन उस समयान्तराल के लिए समय - वेग ग्राफ तथा समय - अक्ष के बीच . . . . . . . के बराबर होता है ।
क्षेत्रफल ।

वेग - समय ग्राफ का ढाल अधिक होने पर वस्तु के त्वरण पर क्या प्रभाव पड़ेगा ?
ढाल जितना अधिक होगा , वस्तु का त्वरण भी उतना ही अधिक होगा ।

एक कण X - Y तल में गति कर रहा है और किसी क्षण t पर उसके निर्देशांक , x = A sinω t तथा y = A cosω t हैं , जहाँ ω एक नियत राशि है । कण का पथ है ?
वृत्ताकार

एकसमान त्वरित गति के तीनों समीकरणों को लिखिए ।
V = u + at → गति का प्रथम समीकरण _ s = ut + ½ at2 → गति का दूसरा समीकरण v2 = u2 + 2as → गति का तीसरा समीकरण

ग्राफीय विधि से एकसमान त्वरित गति हेतु गति के समीकरण ज्ञात करने के लिए हम किस ग्राफ का अध्ययन करते हैं ?
वेग - समय ग्राफ

एकसमान त्वरित गति में आलेख किस प्रकार का प्राप्त होता है ?
आलेख एक सरल रेखा के रूप में होगा जिसका ढाल त्वरण को व्यक्त करता है ।

यदि फ्रेम S एवं S ' एक - दूसरे के सापेक्ष यदि नियत वेग से गति कर रहे हों तो इस अवस्था में किसी कण का दोनों फ्रेमों में मापा गया त्वरण क्या होता है ?
त्वरण समान होता है ।

द्विविमीय गति के लिए विस्थापन समीकरण लिखिए और उसका परिमाण बताइए ।
Δr = Δxî + Δyĵ
|Δr| = ( Δx )2 + ( Δy )2

समान परास के लिए एक पिण्ड को समान चाल से कितनी दिशाओं में ( कोणों पर ) प्रेक्षित किया जा सकता है ?
2

किसी प्रक्षेप्य का पथ होता है ?
परवलयिक

किसी प्रक्षेप्य की उसकी अधिकतम ऊँचाई पर चाल उसकी प्रारम्भिक चाल की आधी है , तब प्रक्षेप्य कोण है ?
60°

एक प्रक्षेप्य की अधिकतम ऊँचाई तथा क्षैतिज परास परस्पर समान हैं , तब प्रक्षेप्य का प्रक्षेपण कोण है ?
θ = tan-1 ( 4 )

एक वायुयान पृथ्वी से h ऊँचाई पर क्षैतिज वेग u से गतिमान है । यदि इससे एक पैकेट गिराया जाता है , तब जब पैकेट पृथ्वी पर पहुँचता है , उस समय उसकी चाल है ?
u2 + 2gh

एक प्रक्षेप्य की अधिकतम ऊँचाई पर चाल उसकी प्रारम्भिक चाल u की आधी है । प्रक्षेप्य की क्षैतिज परास है ?
3 u2 / 2g

किसी प्रक्षेप्य के पथ में उच्चतम बिन्दु पर
गतिज ऊर्जा न्यूनतम होती है ।

एक गेंद को क्षैतिज से कितने कोण पर फेंकें कि वह अधिकतम क्षैतिज दूरी तय कर सके ?
45°

चार गेंदें क्षैतिज के साथ क्रमश : 15° , 30° , 45° तथा 70° कोण बनाती हुई समान चाल से प्रक्षेपित की जाती हैं । जो गेंद पृथ्वी पर सबसे पहले टकरायेगी , होगी ?
पहली गेंद

किसी प्रक्षेप्य को वेग u प्रक्षेपण कोण θ से फेंकने पर परास R है । यदि उसी वेग से प्रक्षेप्य को कोण ( 90 - θ ) पर फेंका जाये तो परास होगा ?
R

एक प्रक्षेप्य की क्षैतिज परास उसकी अधिकतम ऊँचाई की 4√3 गुनी है । इसके प्रक्षेपण कोण का मान होगा ?
30°

परवलीय गति में क्षैतिज दूरी का मान होता है?
u2 Sin 2θ / g
परवलीय गति में अधिकतम ऊर्ध्वाधर ऊँचाई का मान होता है ?
u2 Sin2θ / 2g

एक गेंद 20 मीटर / सेकण्ड के वेग से क्षैतिज से 60° का कोण बनाते हुए फेंकी जाती है । इसके उडान का समय होगा ( g = 10 m / sec2 )
4 सेकण्ड

प्रक्षेप्य गति में जब प्रक्षेप्य कोण ए हो तब तात्क्षणिक वेग और तात्क्षणिक त्वरण में अधिकतम और न्यूनतम कितना कोण हो सकता है ?
π/2 + θ , π/2 - θ

प्रक्षेप पथ के उच्चतम बिन्दु पर प्रक्षेप्य की गति की दिशा क्षैतिज क्यों हो जाती है ?
क्योंकि उच्चतम बिन्दु पर ऊर्ध्वाधर वेग शून्य हो जाता है ।

प्रक्षेप पथ के उच्चतम बिन्दु पर वेग व त्वरण की दिशाओं के बीच कितना कोण होता है ?
90°

प्रक्षेप पथ के किस बिन्दु पर चाल निम्नतम होती है ? किस बिन्दु पर अधिकतम ?
उच्चतम बिन्दु पर निम्नतम , प्रक्षेपण बिन्दु पर अधिकतम ।

एक खिलाड़ी गेंद को क्षैतिज से किस झुकाव पर फेंके कि गेंद अधिकतम दूरी तक जाये ?
45°

प्रक्षेप्य पथ ऋजुरेखीय होने के लिये प्रक्षेप कोण का मान कितने डिग्री के बराबर होना चाहिये ?
90°

एक मीनार की चोटी से एक गेंद क्षैतिज दिशा में फेंकी जाती है तथा उसी मीनार की चोटी से एक दूसरी गेंद गिराई जाती है । दोनों गेंदों के पृथ्वी पर पहुँचने में समयान्तराल क्या होगा ?
शून्य । दोनों गेंदों के ऊर्ध्वाधर गति हेतु सूत्र s = ut + ½ at2 में x = 0 और a = g अत : दोनों गेंदों के लिये t समान होंगे अर्थात् दोनों गेंदें एक साथ पृथ्वी पर पहुँचेंगी ।

महत्तम ऊँचाई का सूत्र लिखिये और यह बताइये कि महत्तम ऊँचाई पर प्रक्षेप्य का वेग कितना होता है ?

महत्तम ऊँचाई H =
u2 Sin2θ / 2g

महत्तम ऊँचाई पर प्रक्षेप्य का वेग केवल क्षैतिज दिशा में u cosθ होता है ।

ऊपर की ओर फेंकी एक गेंद के प्रक्षेप मार्ग के किस बिन्दु पर त्वरण वेग के अभिलम्ब है ?
प्रक्षेप मार्ग के उच्चतम बिन्दु पर ।

एक वस्तु एक तल में अपने प्रारम्भिक वेग की दिशा से भिन्न दिशा में गतिमान है । इसके द्वारा तय किया गया पथ किस प्रकार का होगा ?
उसका पथ परवलीय पथ होगा ।

कणों के गतिकीय व्यवहार से संबंधित अध्ययन की भौतिकी की शाखा क्या कहलाती है ?
गतिकी ।

एक विमीय , द्विविमीय एवं त्रिविमीय गति में कितने कितने निर्देशांक होते हैं ?
1 , 2 , 3

जब कोई कण या कणों के निकाय किसी निश्चित - अक्ष के परितः घूर्णन करे तो यह कौनसी गति कहलाती है ?
घूर्णन गति ।

वृत्ताकार गति में एक चक्र में विस्थापन कितना होता
शून्य ।

चाल का सूत्र लिखिए ।
चाल = दूरी / समय

ऋणात्मक त्वरण को क्या कहते हैं ?
मन्दन

एकांक समय में तय विस्थापन को क्या कहते हैं ?
वेग

विस्थापन - समय वक्र का ढाल क्या बताता है ?
वेग

वेग - समय वक्र का ढाल क्या बताता है ?
त्वरण

वेग - समय वक्र का क्षेत्रफल क्या दर्शाता है ?
दूरी

यदि कोई कण एक नियत वेग से गतिशील है तो उसका त्वरण कितना होगा ?
शून्य

किसी वस्तु को अधिकतम दूरी तक प्रक्षेपित करने हेतु उसे कितने डिग्री कोण से प्रक्षेपित किया जाना चाहिए ?
45°

Download PDF Of Kinematics In Hindi

Download PDF

Download PDF
111 KB
Due to some technical error, you are not able to download PDF at this time. Still You can download PDF in our telegram channel.

Post a Comment

0 Comments

Promoted Posts