Join Telegram Group

मानव तन्त्र ( Human System )

human system in hindi

( 1 ) कोशिका शरीर की मूलभूत संरचनात्मक व क्रियात्मक इकाई है । समान कार्य करने वाली कोशिकाएँ मिलकर ऊतकों का निर्माण करती हैं । जैसे - पेशी , अस्थि आदि ।
कोशिका → ऊतक → अंग → अंग तंत्र → मानव शरीर ।

( 2 ) तंत्र ( System ) - दो या दो से अधिक तरह के ऊतक मिलकर अंग का निर्माण करते हैं । शरीर के विभिन्न अंग एक साथ समूहित होकर किसी एक विशिष्ट क्रिया का सम्पादन करते हैं तथा एक तन्त्र का निर्माण करते हैं । उदाहरण – पाचन तंत्र , श्वसन तंत्र , जनन तंत्र आदि ।

( 3 ) पाचन तंत्र ( Digestive system ) - भोजन के अन्तर्ग्रहण से लेकर मल त्याग तक एक तंत्र जिसमें अनेक अंग , ग्रन्थियाँ आदि सम्मिलित हैं , सामंजस्य के साथ कार्य करते हैं । यह पाचन तंत्र कहलाता है ।

( 4 ) पाचन ( Digestion ) - जटिल पोषक पदार्थों व बड़े अणुओं को विभिन्न रासायनिक क्रियाओं तथा एंजाइमों की सहायता से सरल , छोटे व घुलनशील पदार्थों में परिवर्तित करने की प्रक्रिया को पाचन कहते हैं ।

( 5 ) आहार नाल ( Alimentary Canal ) - इसे पोषण नाल भी कहते हैं । इसकी लम्बाई करीब 8 - 10 मीटर होती है । आहार नाल के प्रमुख भाग निम्न हैं —

  • ( i ) मुख
  • ( ii ) ग्रसनी
  • ( iii ) ग्रासनली
  • ( iv ) आमाशय
  • ( V ) छोटी आँत
  • ( vi ) बड़ी आँत
  • ( vii ) मल द्वार ।

( 6 ) पाचन ग्रन्थियाँ - ये तीन प्रकार की होती हैं -

  • ( i ) लार ग्रन्थि
  • ( ii ) यकृत ग्रन्थि
  • ( iii ) अग्नयाशय

( 7 ) संवरणी पेशियाँ ( Sphincters ) - विभिन्न स्तरों पर संवरणी पेशियाँ भोजन , पाचित भोजन रस व अवशिष्ट की गति को नियंत्रित करती हैं ।

( 8 ) दाँत - मुख में चार प्रकार के दाँत पाये जाते हैं –

1 . कृन्तक ( Incisors )
2 . रदनक ( Carines )
3 . अग्र चर्वणक ( Premolars )
4 . चर्वणक ( molars )

मानव में मसूड़ों तथा दाँतों की स्थिति को गर्तदन्ती ( Thecodont ) कहते हैं । मनुष्य में द्विबारदंती ( Diphyodont )व विषमदंती दाँत पाये जाते हैं | मुख गुहा में 32 दाँत पाये जाते हैं । ( उपरी जबड़े में 16 व निचले जबड़े में 16 )

( 9 ) ग्रसनी ( Pharynx ) अपनी संरचना से ये सुनिश्चित करती है कि भोजन श्वास नाल में तथा वायु ग्रास नाल में प्रविष्ट ना हो पाए । ग्रसनी को तीन भागों में विभक्त किया गया है -

  • ( i ) नासाग्रसनी ( nasopharynx )
  • ( ii ) मुख ग्रसनी ( Orophar ynx )
  • ( iii ) कंठ ग्रसनी ( Laryng opharynx )

( 10 ) आमाशय ( Stomach ) - इसका आकार J जैसा होता है । यह 1 से 3 लीटर तक आहार को धारित कर सकता है । आमाशय को तीन भागों में विभक्त किया गया है -

  • ( i ) कार्डियक या जठरागम भाग
  • ( ii ) जठर निर्गमी भाग
  • ( iii ) फंडिस भाग

( 11 ) छोटी आँत ( Small Intestine ) - भोजन का सर्वाधिक पाचन तथा अवशोषण छोटी आँत में होता है । छोटी आंत को तीन भागों में विभक्त किया गया है — ग्रहनी , अग्रक्षुद्रांत्र तथा क्षुद्रांत्र ।

( 12 ) बड़ी आँत ( Large Intestine ) - यह मुख्य रूप से जल व खनिज लवणों का अवशोषण कर अपचित भोजन को मलद्वार से उत्सर्जित करती है । बड़ी आँत भी तीन भागों में विभक्त होती है -

  • ( i ) अधान्त्र अथवा अंधनाल
  • ( ii ) वृहदान्त्र
  • ( iii ) मलाशय

( 13 ) पाचन ग्रन्थियाँ ( Digestive Glands ) - पाचन तंत्र में कुछ पाचन ग्रन्थियाँ भी पाई जाती हैं , जैसे – लार ग्रन्थि , यकृत तथा अग्नाशय । ये ग्रन्थियाँ पाचक रसों द्वारा भोजन के पाचन में सहायता करती हैं । छोटी आँत आदि अंग भी पाचक रसों का स्रावण करते हैं ।

( 14 ) लार ग्रन्थि ( Salivary Gland ) - इनके द्वारा लार का स्रावण किया जाता है । लार का मुख्य कार्य भोजन में उपस्थित स्टार्च का पाचन करना , भोजन को चिकना व घुलनशील बनाना तथा दाँतों , मुखगुहिका व जीभ की सफाई करना है । लार ग्रन्थि तीन प्रकार की होती है -

  • ( i ) कर्णपूर्व ग्रन्थि
  • ( ii ) अधोजम्भ / अवचिबुकीय लार ग्रन्थि
  • ( iii ) अधोजिह्वा ग्रन्थि

( 15 ) श्वसन ( Respiration ) - कार्बन डाइऑक्साइड व ऑक्सीजन का विनिमय जो पर्यावरण , रक्त और कोशिकाओं के मध्य होता है , को श्वसन कहा जाता है । रक्त O2 , युक्त शुद्ध वायु को कोशिकाओं तक पहुँचाता है तथा कोशिकाओं द्वारा उत्सर्जित CO2 का परिवहन कर फेफड़ों के द्वारा वायुमण्डल में छोड़ता है ।

( 16 ) मानव श्वसन तंत्र ( Human Respiratory System ) - मानव में श्वसन तंत्र तीन भागों में विभक्त होता है -

  1. ( i ) ऊपरी श्वसन तंत्र - इसमें मुख्य रूप से नासिका , मुख , ग्रसनी , स्वरयंत्र आदि सम्मिलित हैं ।
  2. ( ii ) निचला श्वसन तंत्र - इसमें श्वास नली , फेफड़े , श्वसनी ( ब्रोंकाई ) एवं श्वसनिका ( ब्रोन्किओल ) , कूपिका आदि सम्मिलित हैं ।
  3. ( iii ) श्वसन मांसपेशियों में मुख्य रूप से मध्य पट ( डायफ्राम ) आता है । इसके संकुचन से वायु फेफड़ों में प्रविष्ट होती है तथा शिथिलन द्वारा बाहर निकलती है ।

( 17 ) श्वसन की प्रक्रिया - यह दो स्तरों पर सम्पादित होती है -

  1. ( i ) बाह्य श्वसन
  2. ( ii ) आन्तरिक श्वसन

( 18 ) रक्त परिसंचरण तंत्र ( Blood Circulatory System ) - इसमें प्रमुख रूप से हृदय तथा रक्त वाहिनियाँ सम्मिलित होती हैं । रक्त के अलावा शरीर में एक अन्य द्रव्य लसिका का भी परिवहन किया जाता है ।

( 19 ) रुधिर कोशिकाएँ - रुधिर में तीन प्रकार की कोशिकाएँ पाई जाती हैं -

  1. ( i ) RBC
  2. ( ii ) WBC
  3. ( iii ) बिंबाणु ( Platelets )

इनके अतिरिक्त रक्त में प्लाज्मा पाया जाता है ।


( 20 ) रक्त समूह - लाल रक्त कणिकाओं पर पाये जाने वाले प्रतिजनों की उपस्थिति तथा अनुपस्थिति के आधार पर रक्त को चार समूहों में बाँटा गया है ए , बी , एबी और ओ । आरएच प्रतिजन की उपस्थिति के आधार पर रक्त दो प्रकार का होता है - Rh+ व Rh-

Also Read- रक्त की संरचना एवं कार्य

( 21 ) धमनी व शिरा - जिन रक्तवाहिनियों में O2 , युक्त शुद्ध रक्त प्रवाहित होता है , उन्हें धमनी तथा जो विऑक्सीजनित अपशिष्ट युक्त रक्त का परिवहन करती हैं , उन्हें शिरा कहते हैं ।

( 22 ) हृदय पेशी ऊतकों से बना मांसल खोखला तथा बंद मुट्ठी के आकार का लाल रंग का होता है । इस पर पाया जाने वाला आवरण हृदयावरण ( Pericordium ) कहलाता है । हृदय में चार कक्ष ' पाये जाते हैं , जिनमें दो आलिन्द व दो निलय होते हैं ।

( 23 ) उत्सर्जन तन्त्र ( Excretory system ) - उपापचयी प्रक्रियाओं के फलस्वरूप निर्मित अपशिष्ट उत्पादों एवं अतिरिक्त लवणों को शरीर से बाहर त्यागना उत्सर्जन कहलाता है । उत्सर्जन से सम्बन्धित अंगों को उत्सर्जन अंग कहते हैं । उत्सर्जन अंगों को सामूहिक रूप से उत्सर्जन तन्त्र कहते हैं ।

( 24 ) मनुष्य में निम्न उत्सर्जन अंग पाये जाते हैं -

  • ( i ) वृक्क ( Kidney )
  • ( ii ) मूत्र वाहिनियाँ ( Ureters )
  • ( iii ) मूत्राशय ( Urinary Bladder )
  • ( iv ) मूत्र मार्ग ( Urethera )

( 25 ) नेफ्रॉन ( Nephron ) - ये वृक्क की क्रियात्मक एवं संरचनात्मक इकाई है । उत्सर्जी उत्पाद विलेय नाइट्रोजनी यौगिकों के रूप में वृक्क में नेफ्रॉन द्वारा निकाले जाते हैं ।

( 26 ) यौवनारम्भ - मानव ( नर एवं मादा ) में अपरिपक्व जनन अंगों का परिपक्वन होकर जनन क्षमता का विकास होना यौवनारम्भ कहलाता है । नर की अपेक्षा मादा में यौवनारम्भ पहले प्रारम्भ होता है । मानव में टेस्टोस्टेरॉन तथा स्त्रियों में एस्ट्रोजन तथा प्रोजेस्टेरान लिंग हार्मोन हैं ।

( 27 ) जनन अंगों को प्राथमिक तथा द्वितीयक लैंगिक अंगों में विभक्त किया है । प्राथमिक अंग युग्मकों का निर्माण करते हैं । प्राथमिक अंगों के अलावा अन्य सभी अंग जो जनन तंत्र में कार्य करते हैं , द्वितीयक अंग कहलाते हैं ।

( 28 ) नर जनन अंग - वृषण , वृषणकोष , शुक्रवाहिनी , शुक्राशय , प्रोस्टेट , ग्रन्थि , मूत्र मार्ग तथा शिश्न ।

( 29 ) मादा जनन अंग - अण्डाशय , अण्डवाहिनी , गर्भाशय तथा योनि ।

( 30 ) तंत्रिका - तंत्र ( Nervous system ) - वह अंग तंत्र जो प्राणी के भीतर शरीर के अन्य तमाम अंग तंत्रों के कार्य करने का समन्वय एवं नियंत्रण करता है , तंत्रिका तंत्र कहलाता है । अंत : स्रावी तंत्र के साथ मिलकर तंत्रिका तंत्र हमारे शरीर के विविध अंगों तथा तंत्रों के कार्य में संचार करता है , उनका समन्वय व नियंत्रण करता है तथा शरीर के बाहरी उद्दीपनों के प्रति अनुक्रिया करने में सहायता करता है ।

( 31 ) तंत्रिका तंत्र दो भागों में विभाजित होता है -

  • ( i ) केन्द्रीय तंत्रिका तंत्र - इसमें मुख्य रूप से मस्तिष्क , मेरुरज्जु तथा इससे निकलने वाली तंत्रिका कोशिकाएँ शामिल होती हैं ।
  • ( ii ) परिधीय तंत्रिका तंत्र - इसे दो भागों में वर्गीकृत किया गया है -
    • ( i ) कायिक तंत्रिका तंत्र
    • ( ii ) स्वायत्त तंत्रिका तंत्र

( 32 ) अन्तःस्रावी तंत्र ( Endocrine System ) - यह अन्त : स्रावी ग्रन्थियों ( Endocrine glands ) के माध्यम से कार्य करता है । ये ग्रन्थियाँ अपना स्राव सीधे रक्त में छोड़ती हैं क्योंकि इनमें नलिका का अभाव होता है , इसलिए इन्हें नलिकाविहीन ग्रन्थियाँ भी कहते हैं । इन ग्रन्थियों के स्राव को हार्मोन कहते हैं ।

( 33 ) मनुष्य की अन्त : स्रावी ग्रन्थियाँ

  • ( i ) हाइपोथैलेमस ( Hypo thalamus )
  • ( ii ) पीयूष ग्रन्थि ( Pituitary Gland )
  • ( iii ) पिनियल ग्रन्थि ( Pineal Gland )
  • ( iv ) थाइरॉइड ग्रन्थि ( Thyroid Gland )
  • ( v ) पैराथाइरॉइड ग्रन्थि ( Parathyroid Gland )
  • ( vi ) अग्न्याशय ( Pancreas )
  • ( vii ) अधिवृक्क ग्रन्थि ( Adrenal Gland )
  • ( viii ) थाइमस ग्रन्थि ( Thymus Gland )
  • ( ix ) वृषण ( Testes )
  • ( x ) अण्डाशय ( Ovary )

Also Read- मानव तंत्र से सम्बंधित प्रश्न - उत्तर

Download PDF

Download PDF
222 KB
Due to some technical error, you are not able to download PDF at this time. Still You can download PDF in our telegram channel.

Post a Comment

0 Comments

Promoted Posts