Knowledge Booster - 2

knowledge booster

1. भारत में सबसे पहले डाकघर कब और कहां खोला गया ?

➥ हालांकि भारत में डाक भेजने की परंपरा सैंकड़ों - हजारों सालों से चल रही है । लेकिन आधुनिक भारत में डाक सेवा की शुरुआत 1 अक्टूबर 1854 को महानिदेशक के नियंत्रण वाले 701 डाकघरों के नेटवर्क के साथ हुई । उससे पहले वर्ष 1774 में कलकत्ता में पहला डाकघर खोला गया था । वर्ष 1786 में मद्रास और वर्ष 1793 में बंबई में डाकघर खोले गए थे । वर्ष 1854 के डाकघर अधिनियम ने डाकघर प्रबंधन का संपूर्ण अधिकार और पत्रों के संवहन का विशेषाधिकार सरकार को देते हुए तत्कालीन डाक प्रणाली को संशोधित किया । एक लाख 55 हजार से ज्यादा डाकघरों वाली यह विश्व की सबसे बड़ी डाक प्रणाली है ।

2.हिंदी सिनेमा की पहली हीरोइन कौन थी ?

➥ हिंदी सिनेमा की पहली हीरोइन कोई स्त्री नहीं बल्कि पुरुष था । 3 मई 1913 को राजा हरिश्चंद्र रिलीज हुई थी । दादा साहब फाल्के को तमाम कलाकार तो मिल गए लेकिन रानी तारामती की भूमिका के लिए कोई महिला तैयार नहीं हुई । दादा हताश होकर लौट रहे थे । रास्ते में सड़क के किनारे रूके और चाय का ऑर्डर दिया । उन्होंने देखा कि जो वेटर चाय का गिलास लेकर आया था , उसकी उंगलियां बड़ी नाजुक थीं और चालढाल में भी थोड़ा स्त्रियों जैसा था । दादा ने उससे पूछा , “ यहां कितनी तनख्वाह मिलती है ? ' उसने कहा - पांच रुपया महीना । ' दादा ने कहा , “ यदि पांच रुपया रोज मिले तो काम करोगे ? ' वेटर ने उत्सुक होकर पूछा , ' क्या करना होगा ? दादा ने सारी बात उसे समझाई । इस तरह पहली नायिका कोई स्त्री नहीं पुरुष बना , जिसका नाम था अण्णा सालुंके ।

3.सावित्री फुले कौन थीं और उनका क्या योगदान है ?

➥ सावित्री बाई फुले ( 3 जनवरी 1831 से 10 मार्च 1897 ) एक समाज सुधारक और मराठी कवयित्री थीं । उन्होंने अपने पति महात्मा ज्योतिराव फुले के साथ मिलकर स्त्रियों के अधिकारों और शिक्षा के लिए बहुत से कार्य किए । सावित्री बाई भारत के प्रथम कन्या विद्यालय में पहली शिक्षिका थीं । उन्हें मराठी काव्य की अग्रदूत माना जाता है । वर्ष 1852 में उन्होंने अछूत बालिकाओं के लिए एक विद्यालय की स्थापना की । उनका जन्म 3 जनवरी 1831 को हुआ था । उनके पिता का नाम खन्दोजी नेवसे और माता का नाम लक्ष्मी था । सावित्री का विवाह वर्ष 1840 में ज्योतिराव फुले से हुआ । वे महाराष्ट्र और भारत में सामाजिक सुधार आंदोलन के एक महत्वपूर्ण व्यक्ति थे । उन्हें महिलाओं और दलित जातियों को | शिक्षित करने के लिए जाना जाता है ।ज्योतिबा सावित्री के संरक्षक , गुरु और समर्थक थे । सावित्री बाई ने अपने जीवन को एक मिशन की तरह जिया , जिसका उद्देश्य था विधवा विवाह कराना , छुआछूत मिटाना , महिलाओं को मुक्ति और दलित महिलाओं को शिक्षा दिलाना । वे एक कवयित्री भी थीं और उन्हें महाराष्ट्र की आदि कवयित्री मानी जाती थीं । वे स्कूल जाती थीं तो लोग पत्थर मारते थे । उन दिनों लड़कियों के लिए स्कूल खोलना पाप माना जाता था । वर्ष 1848 में अपने पति से मिलकर उन्होंने पुणे में विभिन्न जातियों की नौ छात्राओं के साथ एक विद्यालय की स्थापना की । एक वर्ष में दोनों ने पांच विद्यालय खोल दिए । तत्कालीन सरकार ने उन्हें सम्मानित भी किया । 10 मार्च 1897 को प्लेग के कारण सावित्री बाई का निधन हो गया । प्लेग महामारी में सावित्री प्लेग के मरीजों की सेवा करती थीं । प्लेग पीड़ित बच्चे की सेवा करते हुए उन्हें यह रोग लगा ।

4.स्पेस में जाने वाली पहली भारतीय महिला कौन थी ?

➥ कल्पना चावला ( 1 जुलाई 1961 - 1 फरवरी 2003 ) अंतरिक्ष में जाने वाली पहली भारत में जन्मी महिला थीं । वे भारतीय अमरीकी अंतरिक्ष यात्री और अंतरिक्ष शटल मशीन विशेषज्ञ थीं । वे कोलंबिया अंतरिक्ष यान हादसे में मारे गए सात सदस्यों वाले दल का हिस्सा थीं । हरियाणा के करनाल में जन्मी कल्पना के पिता का नाम बनारसी लाल चावला और मां का नाम संज्योति था । वे अपने चार भाई बहनों में सबसे छोटी थीं । उनकी शुरुआती पढ़ाई - लिखाई टैगोर बाल निकेतन में हुई । कल्पना जब आठवीं कक्षा में पहुंची तो उसने इंजीनियर बनने की इच्छा व्यक्त की । पिता उसे चिकित्सक या शिक्षिका बनाना चाहते थे । पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज , चंडीगढ़ से एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई करते हुए उन्होंने वर्ष 1982 में बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग की उपाधि ली । 1982 में वे अमरीका चली गई और वहां टेक्सास यूनिवर्सिटी और कोलोरेडो यूनिवर्सिटी से उच्च डिग्रियां प्राप्त की । मार्च 1995 में वे नासा के अंतरिक्ष यात्री कोर में शामिल हुईं । उनकी पहली अंतरिक्ष यात्रा एटीएस - 87 कोलंबिया स्पेस शटल में संपन्न हुई । इसकी अवधि 19 नवंबर 1997 से 5 दिसंबर 1997 तक रही । उनकी दूसरी और अंतिम उड़ान 16 जनवरी 2003 को शुरू हुई । यह मिशन 16 दिन का था । इस मिशन पर उन्होंने अपने सहयोगियों के साथ मिलकर कुल 80 परीक्षण किए । वापसी के समय 1 फरवरी 2003 को कोलंबिया के दुर्घटनाग्रस्त हो जाने पर कल्पना और छह अन्य सहयात्रियों की मौत हो गई ।

5.भारत रत्न क्या है ?

➥ भारत रत्न भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है । यह सम्मान राष्ट्रीय सेवा के लिए दिया जाता है । इन सेवाओं में कला , साहित्य , विज्ञान , सार्वजनिक सेवा और खेल शामिल हैं । सरकार ने उन्हें सम्मानित भी किया । इस सम्मान की स्थापना डॉ . राजेंद्र प्रसाद ने 2 जनवरी 1954 में की थी । अन्य अलंकरणों के समान इस सम्मान को नाम के साथ पदवी के रूप में प्रयुक्त नहीं किया जा सकता । प्रारंभ में इस सम्मान को मरणोपरांत देने का प्रावधान नहीं था लेकिन वर्ष 1955 में यह प्रावधान इसमें जोड़ दिया गया । वर्ष 1992 में नेताजी सुभाष चंद्र बोस को मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया गया । लेकिन उनकी मृत्यु के विवादित होने के कारण सम्मान के मरणोपरांत स्वरूप पर सवाल उठाए गए । इसलिए सरकार ने यह सम्मान वापस ले लिया ।

6. सिटी ऑफ टूथपिक्स क्या है ?

➥ अमरीका के एक कलाकार स्टैन मनरो ने टूथपिक्स को गोंद से जोड़कर इमारतें , पुल और सड़कें बनाकर एक अदभुत संसार की रचना की है । इसे टूथपिक सिटी कहा जाता है । उन्होंने दुनिया की प्रसिद्ध इमारतों को इसमें शामिल किया है । ये मॉडल न्यूयॉर्क के म्यूजियम ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी , सायरेक्यूज में रखा गया है । इसमें ताजमहल भी है , एफिल टॉवर है और कंबोडिया का अंगकोरवाट भी है ।

7.भागवद् गीता के कितने नाम हैं ?

➥ महाभारत के छठे खंड का हिस्सा है - " भागवद् गीता । ऐसा लगता है कि इस ग्रंथ की रचना अलग से की गई थी लेकिन कालांतर में यह महाभारत का अंग बन गई । इसकी रचना शायद ईसा की पहली या दूसरी सदी में हुई । इस पर टीकाएं और व्याख्यात्मक पुस्तकें लिखी गईं , जो गीता जितनी ही महत्वपूर्ण हो गईं । पहली टीका आदि शंकराचार्य ने लिखी थी । इसके अलावा भास्कर , रामानुज , नीलकंठ , श्रीधर और मधुसूदन की प्राचीन टीकाएं उपलब्ध हैं , जिन्हें गीतोपनिषद् भी कहा जाता है । गीता पर कुछ प्रसिद्ध टीकाएं इस प्रकार हैं - गीता भाष्यः आदि शंकराचार्य , ज्ञानेश्वरीः ज्ञानेश्वर महाराज ने गीता का संस्कृत से मराठी में अनुवाद किया । श्रीमद भागवद् गीता यथारूपः प्रभुपाद , गीता रहस्यः बाल गंगाधर तिलक , अनासक्ति योगः महात्मा गांधी , गीताईः विनोबा भावे , गीता तत्व विवेचिनीः जय दयाल गोयंदका , बसंतेश्वरी भागवद् गीता परो बसंत प्रभाष जोशी ।

8.सुपरमैन का जन्म कैसे हुआ ?

➥ सुपरमैन एक काल्पनिक चरित्र है , जिसकी कथाएं कॉमिक्स के रूप में छापी जाती हैं । इसे एक अमरीकी प्रतीक माना जाता था । वर्ष 1932 में इसकी रचना जैरी सीगल और जो शुस्टर नामक दो किशोरों ने उस समय की थी , जब वे ओहयो में रहते थे और स्कूल में पढ़ते थे । उन्होंने इस चरित्र के अधिकारी डिटेक्टिव कॉमिक्स को बेच दिए थे । इसका पहला प्रकाशन वर्ष 1938 में एक्शन कॉमिक्स # 1 में हुआ था । इसके बाद यह चरित्र टेलीविजन और रेडियो आदि पर भी अवतरित हुआ । यह अब तक के रचे गए सबसे लोकप्रिय चरित्रों में से एक है । सुपरमैन नीले रंग का परिधान पहनता है , जिसके सीने पर लाल रंग की ढाल बनी होती है । इस ढाल पर लिखा होता है एस । इसकी मूल कथा यह है कि इसका जन्म नामक क्रिप्टॉन ग्रह पर हुआ था , जहां उसका नाम था कैल - एल । यह क्रिप्टॉन ग्रह नष्ट हो रहा था कि वैज्ञानिक पिता ने इस शिशु को रॉकेट में बैठाकर धरती पर भेज दिया । यह बच्चा कैनसस के किसान और उसकी पत्नी को मिला । उन्होंने इस बच्चे को पाला और इसका नाम रखा क्लार्क कैट । उन्होंने इस बच्चे को गहरी नैतिक शिक्षा दी । इस बच्चे में शुरुआत से ही विलक्षण शक्तियां थीं , जिसका इस्तेमाल उसने अच्छे कामों में किया । सुपरमैन अमरीका के एक काल्पनिक नगर मेटरोपोलिस में रहता है । क्लार्क कैट के रूप में वह मेटरोपोलिस के डेली प्लेनेट अखबार में काम करता है ।

9.घड़ी के कांटे और कलपुर्जे किस धातु के बनाए जाते हैं ?

➥ अब घड़ियां इलेक्ट्रॉनिक और डिजिटल हो रही हैं और उनमें धातु का इस्तेमाल कम हो रहा है । हालांकि परंपरागत कील कांटों वाली घड़ियों में इस्तेमाल होने वाली धातुएं हैं - स्टेनलेस स्टील , सोना और प्लेटिनम । इसके अलावा डटिनियम और सिलिकन का भी इस्तेमाल होता है । सिलिकन रगड़ खाने वाली जगह पर चिकनाई की जरूरत को पूरा करता है ।

10.फॉरेस्ट हिल नामक स्टेडियम किस खेल से संबंधित है ?

➥ फॉरेस्ट हिल न्यूयॉर्क के क्वींस बोरो का इलाका है । वहां है फॉरेस्ट हिल टेनिस स्टेडियम । यह स्टेडियम विश्व प्रसिद्ध वेस्टसाइड टेनिस क्लब के पास अनेक स्टेडियमों में से एक है । यह स्टेडियम 1923 में बना था । 1975 तक यहां अमरीकी ओपन की टेनिस प्रतियोगिता होती थी । हाल ही में इस स्टेडियम का जीर्णोद्धार किया गया है । अब यहां संगीत कार्यक्रम होने लगे हैं ।

Download PDF
131 KB

Post a Comment

0 Comments

Promoted Posts