Join Telegram Group

Knowledge Booster - 2

knowledge booster

1. भारत में सबसे पहले डाकघर कब और कहां खोला गया ?

➥ हालांकि भारत में डाक भेजने की परंपरा सैंकड़ों - हजारों सालों से चल रही है । लेकिन आधुनिक भारत में डाक सेवा की शुरुआत 1 अक्टूबर 1854 को महानिदेशक के नियंत्रण वाले 701 डाकघरों के नेटवर्क के साथ हुई । उससे पहले वर्ष 1774 में कलकत्ता में पहला डाकघर खोला गया था । वर्ष 1786 में मद्रास और वर्ष 1793 में बंबई में डाकघर खोले गए थे । वर्ष 1854 के डाकघर अधिनियम ने डाकघर प्रबंधन का संपूर्ण अधिकार और पत्रों के संवहन का विशेषाधिकार सरकार को देते हुए तत्कालीन डाक प्रणाली को संशोधित किया । एक लाख 55 हजार से ज्यादा डाकघरों वाली यह विश्व की सबसे बड़ी डाक प्रणाली है ।

2.हिंदी सिनेमा की पहली हीरोइन कौन थी ?

➥ हिंदी सिनेमा की पहली हीरोइन कोई स्त्री नहीं बल्कि पुरुष था । 3 मई 1913 को राजा हरिश्चंद्र रिलीज हुई थी । दादा साहब फाल्के को तमाम कलाकार तो मिल गए लेकिन रानी तारामती की भूमिका के लिए कोई महिला तैयार नहीं हुई । दादा हताश होकर लौट रहे थे । रास्ते में सड़क के किनारे रूके और चाय का ऑर्डर दिया । उन्होंने देखा कि जो वेटर चाय का गिलास लेकर आया था , उसकी उंगलियां बड़ी नाजुक थीं और चालढाल में भी थोड़ा स्त्रियों जैसा था । दादा ने उससे पूछा , “ यहां कितनी तनख्वाह मिलती है ? ' उसने कहा - पांच रुपया महीना । ' दादा ने कहा , “ यदि पांच रुपया रोज मिले तो काम करोगे ? ' वेटर ने उत्सुक होकर पूछा , ' क्या करना होगा ? दादा ने सारी बात उसे समझाई । इस तरह पहली नायिका कोई स्त्री नहीं पुरुष बना , जिसका नाम था अण्णा सालुंके ।

3.सावित्री फुले कौन थीं और उनका क्या योगदान है ?

➥ सावित्री बाई फुले ( 3 जनवरी 1831 से 10 मार्च 1897 ) एक समाज सुधारक और मराठी कवयित्री थीं । उन्होंने अपने पति महात्मा ज्योतिराव फुले के साथ मिलकर स्त्रियों के अधिकारों और शिक्षा के लिए बहुत से कार्य किए । सावित्री बाई भारत के प्रथम कन्या विद्यालय में पहली शिक्षिका थीं । उन्हें मराठी काव्य की अग्रदूत माना जाता है । वर्ष 1852 में उन्होंने अछूत बालिकाओं के लिए एक विद्यालय की स्थापना की । उनका जन्म 3 जनवरी 1831 को हुआ था । उनके पिता का नाम खन्दोजी नेवसे और माता का नाम लक्ष्मी था । सावित्री का विवाह वर्ष 1840 में ज्योतिराव फुले से हुआ । वे महाराष्ट्र और भारत में सामाजिक सुधार आंदोलन के एक महत्वपूर्ण व्यक्ति थे । उन्हें महिलाओं और दलित जातियों को | शिक्षित करने के लिए जाना जाता है ।ज्योतिबा सावित्री के संरक्षक , गुरु और समर्थक थे । सावित्री बाई ने अपने जीवन को एक मिशन की तरह जिया , जिसका उद्देश्य था विधवा विवाह कराना , छुआछूत मिटाना , महिलाओं को मुक्ति और दलित महिलाओं को शिक्षा दिलाना । वे एक कवयित्री भी थीं और उन्हें महाराष्ट्र की आदि कवयित्री मानी जाती थीं । वे स्कूल जाती थीं तो लोग पत्थर मारते थे । उन दिनों लड़कियों के लिए स्कूल खोलना पाप माना जाता था । वर्ष 1848 में अपने पति से मिलकर उन्होंने पुणे में विभिन्न जातियों की नौ छात्राओं के साथ एक विद्यालय की स्थापना की । एक वर्ष में दोनों ने पांच विद्यालय खोल दिए । तत्कालीन सरकार ने उन्हें सम्मानित भी किया । 10 मार्च 1897 को प्लेग के कारण सावित्री बाई का निधन हो गया । प्लेग महामारी में सावित्री प्लेग के मरीजों की सेवा करती थीं । प्लेग पीड़ित बच्चे की सेवा करते हुए उन्हें यह रोग लगा ।

4.स्पेस में जाने वाली पहली भारतीय महिला कौन थी ?

➥ कल्पना चावला ( 1 जुलाई 1961 - 1 फरवरी 2003 ) अंतरिक्ष में जाने वाली पहली भारत में जन्मी महिला थीं । वे भारतीय अमरीकी अंतरिक्ष यात्री और अंतरिक्ष शटल मशीन विशेषज्ञ थीं । वे कोलंबिया अंतरिक्ष यान हादसे में मारे गए सात सदस्यों वाले दल का हिस्सा थीं । हरियाणा के करनाल में जन्मी कल्पना के पिता का नाम बनारसी लाल चावला और मां का नाम संज्योति था । वे अपने चार भाई बहनों में सबसे छोटी थीं । उनकी शुरुआती पढ़ाई - लिखाई टैगोर बाल निकेतन में हुई । कल्पना जब आठवीं कक्षा में पहुंची तो उसने इंजीनियर बनने की इच्छा व्यक्त की । पिता उसे चिकित्सक या शिक्षिका बनाना चाहते थे । पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज , चंडीगढ़ से एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई करते हुए उन्होंने वर्ष 1982 में बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग की उपाधि ली । 1982 में वे अमरीका चली गई और वहां टेक्सास यूनिवर्सिटी और कोलोरेडो यूनिवर्सिटी से उच्च डिग्रियां प्राप्त की । मार्च 1995 में वे नासा के अंतरिक्ष यात्री कोर में शामिल हुईं । उनकी पहली अंतरिक्ष यात्रा एटीएस - 87 कोलंबिया स्पेस शटल में संपन्न हुई । इसकी अवधि 19 नवंबर 1997 से 5 दिसंबर 1997 तक रही । उनकी दूसरी और अंतिम उड़ान 16 जनवरी 2003 को शुरू हुई । यह मिशन 16 दिन का था । इस मिशन पर उन्होंने अपने सहयोगियों के साथ मिलकर कुल 80 परीक्षण किए । वापसी के समय 1 फरवरी 2003 को कोलंबिया के दुर्घटनाग्रस्त हो जाने पर कल्पना और छह अन्य सहयात्रियों की मौत हो गई ।

5.भारत रत्न क्या है ?

➥ भारत रत्न भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है । यह सम्मान राष्ट्रीय सेवा के लिए दिया जाता है । इन सेवाओं में कला , साहित्य , विज्ञान , सार्वजनिक सेवा और खेल शामिल हैं । सरकार ने उन्हें सम्मानित भी किया । इस सम्मान की स्थापना डॉ . राजेंद्र प्रसाद ने 2 जनवरी 1954 में की थी । अन्य अलंकरणों के समान इस सम्मान को नाम के साथ पदवी के रूप में प्रयुक्त नहीं किया जा सकता । प्रारंभ में इस सम्मान को मरणोपरांत देने का प्रावधान नहीं था लेकिन वर्ष 1955 में यह प्रावधान इसमें जोड़ दिया गया । वर्ष 1992 में नेताजी सुभाष चंद्र बोस को मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया गया । लेकिन उनकी मृत्यु के विवादित होने के कारण सम्मान के मरणोपरांत स्वरूप पर सवाल उठाए गए । इसलिए सरकार ने यह सम्मान वापस ले लिया ।

6. सिटी ऑफ टूथपिक्स क्या है ?

➥ अमरीका के एक कलाकार स्टैन मनरो ने टूथपिक्स को गोंद से जोड़कर इमारतें , पुल और सड़कें बनाकर एक अदभुत संसार की रचना की है । इसे टूथपिक सिटी कहा जाता है । उन्होंने दुनिया की प्रसिद्ध इमारतों को इसमें शामिल किया है । ये मॉडल न्यूयॉर्क के म्यूजियम ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी , सायरेक्यूज में रखा गया है । इसमें ताजमहल भी है , एफिल टॉवर है और कंबोडिया का अंगकोरवाट भी है ।

7.भागवद् गीता के कितने नाम हैं ?

➥ महाभारत के छठे खंड का हिस्सा है - " भागवद् गीता । ऐसा लगता है कि इस ग्रंथ की रचना अलग से की गई थी लेकिन कालांतर में यह महाभारत का अंग बन गई । इसकी रचना शायद ईसा की पहली या दूसरी सदी में हुई । इस पर टीकाएं और व्याख्यात्मक पुस्तकें लिखी गईं , जो गीता जितनी ही महत्वपूर्ण हो गईं । पहली टीका आदि शंकराचार्य ने लिखी थी । इसके अलावा भास्कर , रामानुज , नीलकंठ , श्रीधर और मधुसूदन की प्राचीन टीकाएं उपलब्ध हैं , जिन्हें गीतोपनिषद् भी कहा जाता है । गीता पर कुछ प्रसिद्ध टीकाएं इस प्रकार हैं - गीता भाष्यः आदि शंकराचार्य , ज्ञानेश्वरीः ज्ञानेश्वर महाराज ने गीता का संस्कृत से मराठी में अनुवाद किया । श्रीमद भागवद् गीता यथारूपः प्रभुपाद , गीता रहस्यः बाल गंगाधर तिलक , अनासक्ति योगः महात्मा गांधी , गीताईः विनोबा भावे , गीता तत्व विवेचिनीः जय दयाल गोयंदका , बसंतेश्वरी भागवद् गीता परो बसंत प्रभाष जोशी ।

8.सुपरमैन का जन्म कैसे हुआ ?

➥ सुपरमैन एक काल्पनिक चरित्र है , जिसकी कथाएं कॉमिक्स के रूप में छापी जाती हैं । इसे एक अमरीकी प्रतीक माना जाता था । वर्ष 1932 में इसकी रचना जैरी सीगल और जो शुस्टर नामक दो किशोरों ने उस समय की थी , जब वे ओहयो में रहते थे और स्कूल में पढ़ते थे । उन्होंने इस चरित्र के अधिकारी डिटेक्टिव कॉमिक्स को बेच दिए थे । इसका पहला प्रकाशन वर्ष 1938 में एक्शन कॉमिक्स # 1 में हुआ था । इसके बाद यह चरित्र टेलीविजन और रेडियो आदि पर भी अवतरित हुआ । यह अब तक के रचे गए सबसे लोकप्रिय चरित्रों में से एक है । सुपरमैन नीले रंग का परिधान पहनता है , जिसके सीने पर लाल रंग की ढाल बनी होती है । इस ढाल पर लिखा होता है एस । इसकी मूल कथा यह है कि इसका जन्म नामक क्रिप्टॉन ग्रह पर हुआ था , जहां उसका नाम था कैल - एल । यह क्रिप्टॉन ग्रह नष्ट हो रहा था कि वैज्ञानिक पिता ने इस शिशु को रॉकेट में बैठाकर धरती पर भेज दिया । यह बच्चा कैनसस के किसान और उसकी पत्नी को मिला । उन्होंने इस बच्चे को पाला और इसका नाम रखा क्लार्क कैट । उन्होंने इस बच्चे को गहरी नैतिक शिक्षा दी । इस बच्चे में शुरुआत से ही विलक्षण शक्तियां थीं , जिसका इस्तेमाल उसने अच्छे कामों में किया । सुपरमैन अमरीका के एक काल्पनिक नगर मेटरोपोलिस में रहता है । क्लार्क कैट के रूप में वह मेटरोपोलिस के डेली प्लेनेट अखबार में काम करता है ।

9.घड़ी के कांटे और कलपुर्जे किस धातु के बनाए जाते हैं ?

➥ अब घड़ियां इलेक्ट्रॉनिक और डिजिटल हो रही हैं और उनमें धातु का इस्तेमाल कम हो रहा है । हालांकि परंपरागत कील कांटों वाली घड़ियों में इस्तेमाल होने वाली धातुएं हैं - स्टेनलेस स्टील , सोना और प्लेटिनम । इसके अलावा डटिनियम और सिलिकन का भी इस्तेमाल होता है । सिलिकन रगड़ खाने वाली जगह पर चिकनाई की जरूरत को पूरा करता है ।

10.फॉरेस्ट हिल नामक स्टेडियम किस खेल से संबंधित है ?

➥ फॉरेस्ट हिल न्यूयॉर्क के क्वींस बोरो का इलाका है । वहां है फॉरेस्ट हिल टेनिस स्टेडियम । यह स्टेडियम विश्व प्रसिद्ध वेस्टसाइड टेनिस क्लब के पास अनेक स्टेडियमों में से एक है । यह स्टेडियम 1923 में बना था । 1975 तक यहां अमरीकी ओपन की टेनिस प्रतियोगिता होती थी । हाल ही में इस स्टेडियम का जीर्णोद्धार किया गया है । अब यहां संगीत कार्यक्रम होने लगे हैं ।

Download PDF

Download PDF
131 KB
Due to some technical error, you are not able to download PDF at this time. Still You can download PDF in our telegram channel.

Post a Comment

0 Comments

Promoted Posts