रसायन विज्ञान प्रश्नोत्तरी - 3 में हिस्सा लें , टॉप 10 प्रतिभागियों के नामों की सूची 09-04-2020 को 01:00 PM पर प्रकाशित होगी

भारत की जलवायु_Climate Of India

भारत की जलवायु_Climate Of India

जलवायु : किसी क्षेत्र में लम्बे समय तक जो मौसम की स्थिति होती है , उसे उस स्थान की जलवायु कहते हैं । भारत की जलवायु उष्णकटिबंधीय मानसूनी जलवायु है ।

मौसम : किसी स्थान पर थोड़े समय की , जैसे एक दिन या एक सप्ताह की वायुमंडलीय अवस्थाओं को वहाँ का मौसम कहते हैं । भारत में मौसम संबंधी सेवा सन् 1875 ई . में आरंभ की गई थी । तब इसका मुख्यालय शिमला में था । प्रथम विश्वयुद्ध के बाद इसका मुख्यालय पुणे लाया गया । अब भारत के मौसम संबंधी मानचित्र वहीं से प्रकाशित होते हैं ।

भारतीय जलवायु को मानसून के अलावे प्रभावित करने वाले दो प्रमुख कारक हैं -
1.उत्तर में हिमालय पर्वत : इसकी उपस्थिति के कारण मध्य एशिया से आने वाली शीतल हवाएँ भारत में नहीं आ पाती हैं ।
2.दक्षिण में हिन्द महासागर : इसकी उपस्थिति एवं भूमध्य रेखा की समीपता के कारण उष्णकटिबंधीय जलवायु अपने आदर्श स्वरूप में पायी जाती है ।

मानसूनी पवनों द्वारा समय - समय पर अपनी दिशा पूर्णतया बदल लेने के कारण भारत में निम्न चार ऋतु चक्रवत पायी जाती है -
1 . शीत ऋतु ( 15 दिसम्बर से 15 मार्च तक )
2 . ग्रीष्म ऋतु ( 16 मार्च से 15 जून तक )
3 . वर्षा ऋतु ( 16 जून से 15 सितम्बर तक )
4 . शरद ऋतु ( 16 सितम्बर से 14 दिसम्बर )

ये तिथियाँ एक सामान्य सीमा - रेखा को तय करती है , मानसून पवनों के आगमन एवं प्रत्यावर्तन में होने वाला विलंब इनको पर्याप्त रूप से प्रभावित करता है ।

उत्तरी भारत के मैदानी भागों में शीत ऋतु में वर्षा प . विक्षोभ याजेट स्ट्रीम के कारण होती है । राजस्थान में इस वर्षा को मावठ कहते हैं ।

जाड़े के दिनों में ( जनवरी - फरवरी महीने में ) तमिलनाडु के तटों पर या कोरोमंडल तट पर वर्षा लौटती हुई मानसून या उत्तरी पूर्वी मानसून के कारण होती है ।

ग्रीष्म ऋतु में असम एवं पश्चिम बंगाल राज्यों में तीव्र आर्द्र हवाएँ चलने लगती हैं , जिनसे गरज के साथ वर्षा हो जाती है । इन हवाओं को पूर्वी भारत में नार्वेस्टर एवं बंगाल में काल बैशाखी के नाम से जाना जाता है । कर्नाटक में इसे चेरी ब्लास्म एवं कॉफी वर्षा कहा जाता है , जो कॉफी की कृषि के लिए लाभदायक होता है । आम की फसल के लिए लाभदायक होने के कारण इसे दक्षिण भारत ( केरल ) में आम्र - वर्षा ( Mango Shower ) कहते हैं ।

उत्तर - पश्चिम भारत के शुष्क भागों में ग्रीष्म ऋतु में चलने वाली गर्म एवं शुष्क हवाओं को ' लू ' ( Loo ) कहा जाता है ।

वर्षा ऋतु में उत्तर - पश्चिमी भारत तथा पाकिस्तान में उष्णदाब का क्षेत्र बन जाता है , जिसे मानसून गर्त कहते हैं । इसी समय उत्तरी अंत: उष्ण अभिसरण ( NITC ) उत्तर की ओर खिसकने लगती है , जिसके कारण विषुवरेखीय पछुआ पवन एवं दक्षिणी गोलार्द्ध की दक्षिण - पूर्वी वाणिज्यिक पवन विषुवत रेखा को पार कर फेरेल के नियम का अनुसरण करते हुए भारत में प्रवाहित होने लगती है , जिसे दक्षिण - पश्चिम मानसन के नाम से जाना जाता है । भारत की अधिकांश वर्षा ( लगभग 80 % ) इसी मानसून से होती है ।

भारत की प्रायद्वीपीय आकृति के कारण दक्षिण - पश्चिम के मानसून दो शाखाओं में विभाजित हो जाता है -
1 . अरब सागर की शाखा तथा
2 . बंगाल की खाड़ी की शाखा ।

अरब सागर शाखा का मानसून सबसे पहले भारत के केरल राज्य में जून के प्रथम सप्ताह में आता है । यहाँ यह पश्चिमी घाट पर्वत से टकरा कर केरल के तटों पर वर्षा करती है । इसे मानसून प्रस्फोट ( Monsoon Burst ) कहा जाता है ।

गारो , खासी एवं जयंतिया पहाड़ियों पर बंगाल की खाड़ी से आने वाली हवाएँ ( द . - प . मानसून की शाखा ) अधिक वर्षा लाती है , जिसके कारण यहाँ स्थित मासिनराम ( मेघालय ) विश्व में सर्वाधिक वर्षा प्राप्त करने वाला स्थान है । ( लगभग 1,141 सेमी . )

मानसून की अरब सागर शाखा तुलनात्मक रूप से अधिक शक्ति - शाली होती है । दक्षिण - पश्चिम मानसून द्वारा लाये कुल आर्द्रता का 65 % भाग अरब सागर से एवं 35 % भाग बंगाल की खाड़ी से आता है ।

अरब सागरीय मानसून की एक शाखा सिन्ध नदी के डेल्टा क्षेत्र से आगे बढ़कर राजस्थान के मरुस्थल से होती हुई सीधे हिमालय पर्वत से जा टकराती है एवं वहाँ धर्मशाला के निकट अधिक वर्षा कराती है । राजस्थान में इसके मार्ग में अवरोध न होने के कारण वर्षा का अभाव पाया जाता है , क्योंकि अरावली पर्वतमाला इनके समानांतर पड़ती है ।

तमिलनाडु पश्चिमी घाट के पर्वत वृष्टि छाया क्षेत्र में पड़ता है । । अतः यहाँ दक्षिण - पश्चिम मानसून द्वारा काफी कम वर्षा होती है ।

शरद ऋतु को मानसून प्रत्यावर्तन का काल ( Retreating Monsoon Season ) कहा जाता है । इस ऋतु में बंगाल की खाड़ी एवं अरब सागर में उष्णकटिबंधीय चक्रवातों की उत्पत्ति होती है । इन चक्रवातों से पूर्वी तटीय क्षेत्रों में मुख्यतः आन्ध्र प्रदेश एवं उड़ीसा ( ओडिशा ) तथा पश्चिमी तटीय क्षेत्र में गुजरात में काफी क्षति पहुँचती है ।

वर्षा का मौसम समयावधि

दक्षिणी - पश्चिम मानसून → जून से सितम्बर

परवर्ती मानसून काल → अक्टूबर से दिसम्बर

पूर्व मानसून काल → मार्च से मई

शीत ऋतु या उ . प . मानसून → जनवरी - फरवरी

Download PDF Of Climate Of India Hindi Notes

आप सभी स्टूडेंट्स नीचे दिए गये डाउनलोड बटन पर क्लिक करके यह पीडीऍफ़ डाउनलोड कर सकते हो | और इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर सकते हो |
Download PDF
193 KB

Post a Comment

0 Comments

Promoted Posts